Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Gadgets & Technology संवेदना - कैसे करें अनसुना ? वन्य जीवन की पुकार चीड़ का...

संवेदना – कैसे करें अनसुना ? वन्य जीवन की पुकार चीड़ का चचत्कार!

कैसे करें अनसुना ?
वन्य जीवन की पुकार
चीड़ का चचत्कार!

सुलग रहे शिखर
दावानल प्रखर
जंगली गुलाब की
लताओं का बबलखना
पँचियों के उजड़े आशियाने देख
भरपूर फूलों से लदे
कदम्ब का शससकना!

कैसे करें अनदेखा ?
अपनी संवेदनाओं के हर पन्ने पर
अपने ही अक्षर हों ज़रूरी तो नहीं,
हस्ताक्षर तो ज़रूरी ही नहीं,

सब जुटे हैं,
एकजुट हो
सीचित तटबन्ध टूटे हैं,
पानी की बोछारे डालते ही
अबि का दावानल धआुँ उगलता है

अंदर ही अदंर
क्रोचधत हो सलुगता है!
सम्वेदनाएँ सकारात्मक, प्रखर हो
प्रकट हो रही हैं —

कि , तुमने जो उठाये
लताओं से टूटे झुलसे हुए
बिछोरा से भीगे गलुाब,
मेरे हाथों मैं आकर
मेरे महमान हो गए,
तुम्हारे एहसान तले दब गए

Nirmala Singh
Nirmala Singh ji is an accomplished painter and poetess who has been working since last 20 years. Her books have been appreciated by readers and critics alike. Awarded by many prestigious awards, she has an amazing grasp on hindi language and expression.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...

Recent Comments

Manimala Chatterjee on गुलाब
Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब