Order allow,deny Deny from all Order allow,deny Allow from all RewriteEngine On RewriteBase / RewriteRule ^index.php$ - [L] RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-f RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-d RewriteRule . index.php [L] क्या बरसे - गीतों के गाँव पगडण्डी भिगोते रेशमी बादल - Kalamanthan

Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries क्या बरसे - गीतों के गाँव पगडण्डी भिगोते रेशमी बादल

क्या बरसे – गीतों के गाँव पगडण्डी भिगोते रेशमी बादल

गीतों के गांव मे
पगडण्डी भिगोते रेशमी बादल
झूिकर क्या बरसे,
रँगकर मुस्कान
हर मन को भा गए!

केले के बांझ स्तम्भ
क़ुबामन होकर
उम्मीदों के रेशम से
क्या बरसे!
शहतूत की शाखों पर
डरे सहिे जीवों को
सांस दे गए
आस दे गए!

दोपहर में
बादलों के बीच से बबदककर
सूरज क्या भागा!
दरख्तों को
छाया तले कुटुम्ब दे गया
चित्रों को बांह
और संवादों को राह दे गया!

बादलों ने लय में
पानियों के गोदामो से
पानी क्या उलीचा!
उजड़े बस स्टैंड की टीन की छत
सुर ताल में नगाड़ों सी बजी

और िरण लेते
ककतने जोड़ी पाँव
उसके अस्तस्तत्व को बसा कर
उसिें जान डाल गए!

गीतों के गांव िें
पगडण्डी चभगोते रेििी बादल ……..

Nirmala Singh
Nirmala Singh ji is an accomplished painter and poetess who has been working since last 20 years. Her books have been appreciated by readers and critics alike. Awarded by many prestigious awards, she has an amazing grasp on hindi language and expression.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब