Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Ghazals अब रूबरू अपने मुझे पाओगे नहीं तुम

अब रूबरू अपने मुझे पाओगे नहीं तुम

अब रूबरू अपने मुझे पाओगे नहीं तुम
जब तक के मोहब्बत से बुलाओगे नहीं तुम

हाँ इसलिए भी तुमसे कभी रूठा नहीं हँ
मैं जानता हँ मुझको मनाओगे नहीं तुम

बस वस्ल के आदाब ही गिनवाते रहोगे
पर दरमियां की दूरी मिटाओगे नहीं तुम

लो तुम को बता देता हँ मैं बस हँ तुम्हारा
यह बात मगर सबको बताओगे नहीं तुम

क्या रश्क नहीं होगा मुझे अपनी नजर पे
क्या रुख़ से कभी पर्दा हटाओगे नहीं तुम

आंखें तो बहुत नम थी मगर ददल नहीं था नम
जाहिर हुआ फिर लौट के आओगे नहीं तुम

जेहमत है शिकायत है तग़ाफ़ुल है के जीद है
मिसरा कोई सबक़त का उठाओगे नहीं तुम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आधी किताब की पूरी विवेचना – सोशल मिडिया में साहित्य

  इंस्टेंट के नाम पर हमे इंस्टेंट खाना , इंस्टेंट मनोरंजन , इंस्टेंट फेम और इंस्टेंट नेम सब चहिये। और अक्सर इंस्टैंट का चक्रव्यूह हमे...

कवि महाप्राण सूर्यकांत त्रिपाठी ‘ निराला’

  वर दे, वीणावादिनी , वर दे! प्रिय स्वतंत्र- रव अमृत-मंत्र तव भारत में भर दे! काट अंध- उर के बंधन स्तर बहा जननी ज्योतिर्मय निर्झर कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर, जगमग...

बांझाकरी की प्रेमिल कविता

ये लेख कलामंथन समूह की लेखिका प्रियंका गहलोत द्वारा लिखित है। आज के दौर में पत्राचार का सिलसिला थम चुका है। कलामंथन ने दिया...

मेरे प्रिय रेडियो

मेरे प्रिय रेडियो, तेज हवाओं ने खिड़की के पल्ले को आपस में टकराने पर मजबूर कर दिया है। मैं भी बिस्तर से उठ कर अलसाई...

Recent Comments