Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries प्रकृति - अंत भी मैं हँ आगाज भी मैं सृष्टी के...

प्रकृति – अंत भी मैं हँ आगाज भी मैं सृष्टी के तख्तो-ताज भी मैं।

अंत भी मैं हँ आगाज भी मैं
सृष्टी के तख्तो-ताज भी मैं।
संगीत भी मैं हँ और साज भी मैं
जीवन जीने का अंदाज भी मैं।
कण कण  में मेरा है वास
मुझसे चलें प्राणी के श्वास।
टकरा कर मुझसे तू क्या पाएगा
प्रलय को दावत ही देता जाएगा।
ऐ मानब मुझे तू क्यों छेड़ रहा
मुझे मेरे ही घर से ही खदेड़ रहा।
यह धरा रहेगी सदा ऋणी मेरी
सींचा है इसे, हो जैसे भगिनी मेरी।
अपनी उन्नति पर तू जो इतना इतरा रहा
ख़ौफ तुझे अपने काल का भी न रहा।
न बन तू आतंकी, न बन दुराचारी
मेरी संतानों के लिए न बन अत्याचारी।
वक़्त रहते ही संभल जा वरना तू पछताएगा
छूट जाएगा समय, तू हाथ मलता रह जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...

Recent Comments

Manimala Chatterjee on गुलाब
Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब