Phone No.: +917905624735,+919794717099

Email: support@kalamanthan.in

Home Poetries दिल परिंदा

दिल परिंदा

दिल परिंदा

दिल तो एक परिंदा है
कभी इस डाल तो कभी उस डाल
कभी बचपन में गुड्डे गुड़ियों से खेल आता है
और
कभी जवानी के अपने महबूब के गले लग जाता है
और
कभी बुढ़ापे से पहले ही बुढ़ापे को छू आता है
कभी पहाड़ी की चोटी पर
कभी नदियां किनारे
और
कभी चांदनी रात में ठंडी बालू रेत पर
अरे दिल के क्या कहने किस किस से यह कभी भी मिल आता है
तुम बैठे रहो बंद कमरे में और देखो,
तुम्हरा दिल तुम्हरा परिंदा वो गया वो गया
कभी कभी अपना ही यह प्यारा दिल पराया सा लगने लगता है
ऐ दिल तु कितना खुशनसीब है,
कभी तु मुझे भी साथ ले चल
मैं भी बिन कुछ बताएं
बिन कुछ कहे
सारा जग घूम लूं।
Shobha Sangwan
I am a poet, writer, artist, educationist, entrepreneur, social worker

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आंखो की नमी से बहता काजल

आंखो की नमी से, बहता काजल देखा है कभी ,दर्द का बादल !! काजल के बहने से, होती वो हल चल सासो के सिसकियां में , बदल...

चिड़िया

  मत कैद करों चिड़ियों को जाने दो जहाँ जाना है ! उड़ने दो इस आसमान मे उनको भी पंख पसारना है!!१!! उनको इस आसमान में अपनी पहचान बनाना है...

इंग्लिश वाली पर्ची

"अरे सुधा कहाँ हो ,जरा एक कप चाय पिला दो" राकेश जी ने अपनी पत्नी को आवाज दी..सुधा जी उम्र करीब 45 साल,केवल 8वीं तक...

राधे तेरी बन्सी और बृज की छाँव

राधे ,कहाँ गयी तेरी बन्सी और बृज की वो छाँव न रहा वो मिट्टी का अपनापन और गऊओं से लगाव अब नहीं आऊगा तेरे  गॉंव वो पुष्पों...

Recent Comments