Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Blogs नारी कल और आज....

नारी कल और आज….

…..नारी कल और आज…

मेरे जहन में जो नारी की व्याख्या है वो है (रिक्त स्थानोंकी पूर्ती करने वाली )नारी हर एक रिश्तेमें खालीपन कॊ अपने प्यार से भर सकती है ||
नारी कॊ ही महिला भी कहते है मतलब जो खुद तो मन से मजबूत है लेकिन प्यार से दुसरे का मन हिला सकती है ||
बहुत फर्क है पुराने जमाने की नारी और आज की नारी में || पुराने जमाने में शादी की उम्र सोला या उससे भी कम होती थी, उसको शादी का एक ही मतलब समझाया गया था बच्चे पैदा करके वंश कॊ आगे बढाना (वो भी सिर्फ लडके) पढना तो बहुत दूर की बात थी ||इतनी कम उम्र में ना तो शरीर सुधृढ था और ना ही मन मजबूत, सिर्फ घुंघट में रह के चुल्हा चौका करना ही जिंदगी का मक्सद था || ना तो नारीकॊ खुद विचार करनेकी अनुमती थी ना ही पुरुष वर्ग के बीच कुछ बोलने की सहुलीयत ||चुपचाप सहते रहना नारी के नसीब में था ||
लेकिन आज की नारी ऐसी नही है, सावित्रीबाई फुले, डॉ.आनंदी जैसे उच्च शिक्षित महिलाओंसे प्रेरित होके कुछ महिलाओंने पुरे नारी समाज का नक्षा ही बदल दिया है ||आज की नारी पहले खुद पढती है बाद में दुसरोंको शिक्षा देती है || आज की नारी सिर्फ डॉक्टर, वकील ही नही है वो तो चांद तक पहुच गयी है || नारी में एक अद्भुत शक्ती होती है बस उसको अपने शक्ती का एहसास होना जरुरी है || एक बार हो गया तो बस पुरी दुनिया मुठ्ठी में कर लेती है || ये परिवर्तन धीरे धीरे आया है लेकिन अपने देश कॊ उंचे मुकाम तक ले गया है || ऐसा कोई भी क्षेत्र नही है जिसमें नारी का सहयोग नही है || नारी एक ऐसी कडी है जो डॉ परिवारोंको बांधे रखती है ||घर समालते समालते समाज में अपना नाम रोशन करना बहोत बडी बात होती है || आज की नारी अबला नही है, खुदकी सुरक्षा करना वो बखुबी जानती है || वो नन्हें बच्चेसे लेके बुजूर्गो तक हर किसिकी सहेली बन सकती है || जैसे भगवान के अनेक रूप होते है वैसे ही नारी के बहन, माता, कन्या और कभी कभी पिता का भी रूप होती है ||
पुरे समाज से लडने की ताकत आज की नारी में है, ऐसे ही हर एक नारी कॊ में सहृदय प्रणाम करती हूँ जो पुरुषोसे बिना डरे उनके कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है ||
” नारी शक्ती कॊ मेरा प्रणाम ”

ना तो है तु कमजोर अबला
तु तो है मिट्टी की देन
सिनेमे है मोम सा दिल
रगोमे नारी शक्ती का खून ||

चैत्राली धामणकर..

CHAITRALI DHAMANKAR
Chaitrali Vivek Dhamankar is a Pune based writer and poetess. She has many books under her name "Ratrani", 500 poems Inspirational story "Swapnpurti". She has acted in 2 shortfilms She has been awarded with many prestigious awards for her writings.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

How to Teach Writing Skill to Toddlers?

Being into Early childhood education and parenting, I was always asked varied questions by young, anxious mothers. Apart from the initial hiccups of toilet training...

अंतर्द्वन्द

आज 'निशा 'का दिल जोर जोर से धड़क रहा था। न जाने कितना अंतर्द्वन्द मन में था ।"क्या मैं ग़लत तो नहीं कर रही ।"...

विश्व हृदय दिवस पर..❤️

"पिछले दिनों घर में पुताई के बाद परदे लगे तो एक खिड़की के परदे बहस का मुद्दा बन गए . हुआ ये कि उस...

Torchbearer

I could hear my phone ringing in the bedroom. I rushed to pick it up. It was Radha. Congratulations! You've been selected in UPSC! I was...

Recent Comments