Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries Mithas

Mithas

” मिठास ”

दिल में है उभरते अरमान
जुबान पे है शक्कर सी मिठास
छू जाते हो दिल कॊ
शाम होती है तुम बिन उदास ||

सवालों के चक्कर में
गुजरता है सारा दिन
जवाब तो तुम ही हो
कैसे जी सकूंगी पल छीन ||

दिल है नादान
नही समझता बातें
तुमसे जुदा रहके ही
गुजार रही हूँ सारी रातें ||

कश्मकश रहती है आखों मे
तनहा हुं मै कितनी
चुरा ले गये हो नींद भी
मोहब्बत है दिल में इतनी ||

चैत्राली….

CHAITRALI DHAMANKAR
Chaitrali Vivek Dhamankar is a Pune based writer and poetess. She has many books under her name "Ratrani", 500 poems Inspirational story "Swapnpurti". She has acted in 2 shortfilms She has been awarded with many prestigious awards for her writings.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...

Recent Comments

Manimala Chatterjee on गुलाब
Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब