Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries शिकायत

शिकायत

अब तो साँसे भी मेरी मुझसे , शिकायत कर चली है ,
लगता हैं अब वो भी मुझसे , किनारा कर चली है ;
हिदायत क्या दूँ अब किसी और को मैं
के जिस्म मेरा ज़िंदा रह कर , मेरी रूह मर चली है।
जिस दौर से गुजरी थी कभी एक दफा,
वापस उस दौर में आ कर ठहर गयी हूँ मैं ;
जहाँ से समेट कर लाई थी खुद को बाहर,
वापस वही आ कर तिल तिल बिखर गयी हूँ मैं;
शिकवा उससे क्या करूँ जिसे खुदा का दर्जा मैंने ही दिया
लगता है शायद सजदों में कमी मेरे ही हो चली है ;
अब तो साँसे भी मेरी मुझसे शिकायत कर चली है।
Previous articleThe Trek Hum
Next articleबदला
Aashika Shresth
" Mere alfaz kuchh, mujh jaise hi adhure hai, Kabhi fursat se padhna, hote tumse hi pure hai" ❤

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब