Phone No.: +917905624735,+919794717099

Email: support@kalamanthan.in

Home Poetries शिकायत

शिकायत

अब तो साँसे भी मेरी मुझसे , शिकायत कर चली है ,
लगता हैं अब वो भी मुझसे , किनारा कर चली है ;
हिदायत क्या दूँ अब किसी और को मैं
के जिस्म मेरा ज़िंदा रह कर , मेरी रूह मर चली है।
जिस दौर से गुजरी थी कभी एक दफा,
वापस उस दौर में आ कर ठहर गयी हूँ मैं ;
जहाँ से समेट कर लाई थी खुद को बाहर,
वापस वही आ कर तिल तिल बिखर गयी हूँ मैं;
शिकवा उससे क्या करूँ जिसे खुदा का दर्जा मैंने ही दिया
लगता है शायद सजदों में कमी मेरे ही हो चली है ;
अब तो साँसे भी मेरी मुझसे शिकायत कर चली है।
Previous articleThe Trek Hum
Next articleबदला
Aashika Shresth
" Mere alfaz kuchh, mujh jaise hi adhure hai, Kabhi fursat se padhna, hote tumse hi pure hai" ❤

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

August – Story Writing Contest

Are you a writer who loves to dwell into stories? Do you love to see beneath the layers of human emotions? If yes, the Monthly Story...

अगस्त माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? अगर हाँ तो हम आपके लिए शुरू कर...

Unapologetically Happy

“Aww!  My baby….mamma loves you so much." I moved towards my mom taking Ziva in my embrace. "Mom, I know it's going to be tough for...

वर्किंग मदर्स

जाने क्यों 'माओं ' के बीच भी ये खाई बना दी गयी। क्यों मान लिया जाता हैं की घर में रहने वाली माएँ अपना...

Recent Comments