Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Blogs अस्तित्व पर थप्पड़

अस्तित्व पर थप्पड़

 

राम,
मुझसे अब नहीं होगा। थक गयी हूँ मैं रोज़ खुद को साबित करते करते। आज जब मैं खुद से पूछती हूँ कि,”कौन हूँ मैं ?” तो सिर्फ़ तुम्हारी बीवी ही सामने खड़ी होती है। मै कब रश्मि से राम की बीवी बन कर रह गयी पता ही नहीं चला। रश्मि तो गायब ही हो गयी। अपना घर, अपने माता पिता, अपना करियर सब छोड़ दिया।
रोज़ यही सोचती हूँ कि आज जो हुआ वो कल नहीं होगा। पर सोची हुई चीज़ कभी नहीं होती। सर्वगुण संपन्न बनने की कोशिश ने मुझे मेरे अस्तित्व से ही दूर कर दिया। परफेक्ट बहू, परफेक्ट बीवी, परफेक्ट गृहणी के जाल में फस के रह गयी हूँ। कभी सोचा ही नहीं कि मैं भी तो एक परफेक्ट पति, एक परफेक्ट ससुराल के लायक हूँ।
अकेले ही भाग रही हूँ। अब और बर्दाश्त नहीं कर पाउगी। एक उम्मीद होती थी रोज़ तुमसे, सबके सामने ना सही शायद बन्द कमरे में तुम मुझे समझोगे। मेरे साथ रहोगे, पर वहाँ भी मेरे अरमान तुम्हारे साथ ही बिस्तर पर रौंद दिये गये। गलती पर भी सुनना और गलती ना कि तो भी सुनना। पर अब बात मेरे चरित्र की है। तुमसे प्यार करती हूँ पर इसका ये मतलब नहीं कि तुम्हारे घर वालों को कुछ भी बोलने का हक मैंने दिया है।
आज माँ जी ने मेरे चरित्र को निशाना बनाया है और ये मुझे बर्दाश्त नहीं। और उस जगह पर तुम्हारी चुप्पी। और अगर मैंने अपने लिए आवाज़ उठाई तो क्या गलत किया जो तुमने मुझे थप्पड़ मार दिया। ये थप्पड़ मेरी सच्चाई और अस्तित्व पे लगा है राम। और इसके साथ मै जी नहीं पाउगी।
तुम बस खुश रहना। मै तो नहीं रह पायी।
और हाँ, एक बात और अपनी दूसरी शादी टूटने मत देना। मै तो तुम्हारी बीवी और तुम्हारे बच्चे की माँ हीं बन पायी पर शायद दूसरी बीवी से तुम्हारे अरमान पूरे हो पाये।
तुम्हारी रश्मि ।
रात के झगड़े के बाद राम दूसरे कमरे में सो गया था। उसे बिल्कुल भी एहसास नहीं था कि उसी घर के दूसरे कमरे में उसकी पत्नी क्या कर रही है। सुबह हुई और राम जब कमरे में गया तो रश्मि इस दुनिया से दूर जा चुकी थी।
बिस्तर पर पड़ी हुई उसकी लाश मानों राम से ये पूछ रही थी कि क्या जो हुआ वो सही था। जो शादी के वक़्त कसमे खाई थी क्या निभाये तुमने। रश्मि के साथ रश्मि के सवाल भी चले गए। रह गया तो रश्मि का आखिरी लेटर।
ये कहानी थी रश्मि की जो हार चुकी थी।
पर उसने जो किया क्या वो सही था?
भारत में ऐसी बहुत सी औरतें हैं जो दिन रात अपनी शादी बचाने के लिए संघर्ष कर रही है और कयी ऐसी है जो रश्मि की तरह हार मन कर दुनिया को अलविदा कह चुकी है।

 

 

 

 

Read more from the Author

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा  लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं।अगर आप भी लिखने या पढ़ने के शौकीन हैं तो हमारे मंच का हिस्सा बनिये Log in to http://www.kalamanthan.in
लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब