Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Writing Contest बहू हो,बेटी नहीं

बहू हो,बेटी नहीं

 

“दादी मुझे रिमोट कार चाहिए, दिला दो ना।”
“नमन” कितना समझाऊँ तुमको, रिया को अपने घर चले जाने दो उसके बाद मैं दिलवा दूंगी। नहीं तो उसके लिए भी लेना पड़ेगा। दादी-पोते की यह बात सुनकर उमा सोच में पड़ गयी कि ऐसा क्या हो गया जो माँ जी नमन को ये सब सीखा रही है।कयोंकि वो एक लड़का है और रिया एक लड़की। क्या हो गया जो वो लड़की है।
उमा अपनी सास के पास गई और बोलीं- “माँ आप ये नमन को क्या सीखा रही है? ये गलत है। बच्चे एक कच्ची मिट्टी होते हैं। उनको सही आकार देना चाहिए, ना कि गलत। आप ऐसा कर के भाई-बहन के रिश्ते में अभी से दरार डाल रही है। कल को जब ये बड़े होगे तो क्या करेंगे। कभी सोचा है आपने?”
“उमा, मै घर की बड़ी हूँ । मैंने भी बच्चे पाले हैं। अब तुम मुझे बताओगी क्या सही है और क्या गलत। नमन इस घर का चिराग है। वो जो बोलेगा, जो मांगेगा मै दूंगी। तुम्हारी लड़की है ना इसलिए तुम उससे जलती हो।”
“माँ जी, ये आप क्या बोल रही है। नमन मेरा भी बच्चा है। मै उससे क्यों जलूँगी । मुझे बेटी है उसका मुझे कोई अफसोस नहीं है। मै  खुश हूँ। पर नमन को मै गलत बनते नहीं देख सकती। अभी तो पूरा भविष्य उसके सामने है।”
“अब बस करो उमा। मै तुम्हारी सास हूँ, और तुम इस घर की बहू। और ये मत भूलो बहू हो बेटी नहीं। तुम्हारी माँ ने क्या तुमको यही सिखाया है कि जबान कैसे लडाते है।”
“हाँ, माँ जी । मै तो भूल ही गयी थी कि मैं बहू हूँ इस घर की बेटी नहीं। अच्छा किया आपनें जो मेरी आखों की पट्टी खोल दी।
उमा अपनी बेटी को लेती हैं और अपने कमरे में चली जाती है।

 

 

 

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा  लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं।अगर आप भी लिखने या पढ़ने के शौकीन हैं तो हमारे मंच का हिस्सा बनिये Log in to http://www.kalamanthan.in
लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आधी किताब की पूरी विवेचना – सोशल मिडिया में साहित्य

  इंस्टेंट के नाम पर हमे इंस्टेंट खाना , इंस्टेंट मनोरंजन , इंस्टेंट फेम और इंस्टेंट नेम सब चहिये। और अक्सर इंस्टैंट का चक्रव्यूह हमे...

कवि महाप्राण सूर्यकांत त्रिपाठी ‘ निराला’

  वर दे, वीणावादिनी , वर दे! प्रिय स्वतंत्र- रव अमृत-मंत्र तव भारत में भर दे! काट अंध- उर के बंधन स्तर बहा जननी ज्योतिर्मय निर्झर कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर, जगमग...

बांझाकरी की प्रेमिल कविता

ये लेख कलामंथन समूह की लेखिका प्रियंका गहलोत द्वारा लिखित है। आज के दौर में पत्राचार का सिलसिला थम चुका है। कलामंथन ने दिया...

मेरे प्रिय रेडियो

मेरे प्रिय रेडियो, तेज हवाओं ने खिड़की के पल्ले को आपस में टकराने पर मजबूर कर दिया है। मैं भी बिस्तर से उठ कर अलसाई...

Recent Comments