Phone No.: +917905624735,+919794717099

Email: support@kalamanthan.in

Home Blogs अल्हड़ से वयस्क

अल्हड़ से वयस्क

 

नादान से जिम्मेदार बनने का एक दौर।
उन्मुक्त गगन में उड़ने वाले पंछी से, शांत मातृत्व की गरिमा का सफर। माँ का एक छोटा पर अपरिभाषित अर्थ, इतना बड़ा परिवर्तन की, एक किसी भी उम्र की लड़की को एक जिम्मेदार महिला बड़ा देतीं हैं। बहुत सुखद यह सफर होता है। चार चाँद तब लग जाता हैं जब बच्चा बड़ा हो और माँ की गरिमा को समझ पाए।
जब मै बेटी थी तो अपनी सब बातें मनवाना ही जरूरी होता था। कोई परेशानी हो ,तो माँ हैं ना, सब ठीक कर देगी। माँ समस्या के समाधान का खजाना जो होती हैं। पर माँ बनने पर बच्चे की आवश्यकता ही सर्वप्रथम होती हैं।
जब बेटी थी तो माँ की कीमत नहीं समझी। आखिर माँ तो मेरी ही हैं कहाँ जाएगी? अब महसूस होता हैं की हम कितने गलत थे, पर अब क्या। कहते हैं ना बीता समय वापस नहीं आता। मै अब बेटी नहीं रही , क्योकि लाड़ करने वाली इस दुनिया से चली गई और मै वयस्क बन गई क्योकि मेरी माँ नहीं हैं मेरा मानना हैं जब तक आपके माँ -पापा हैं। आप बच्चे हैं भले ही आपकी उम्र ज्यादा हो।
मन का एक कोना कभी कभी खाली रह जाता हैं। एक दर्द के साथ, बेटी बनने की चाह के लिए पर रिक्तता ही हाथ लगती हैं। वो अल्हड़ से जज़्बात कब परिपक्वता में बदल गये, पता नहीं चला,क्योकि अब मै बेटी से माँ बन गई। एक खुशनुमा अहसास।
आज जब बेटी ससुराल चली गई तो अपनी माँ की जगह मै खुद आ गई वही फ़िक्र की आदत। वही चिंता , मसलन अब कब आओगी ,और अंतहीन प्रतिक्षा। सब ठीक तो हैं ना ?छोटी छोटी चिंताए और जब बेटी आती तो सारी खुशियाँ घर आ जाती सूने घर में रौनक आ जाती..
याद हैं वो माँ की प्रतीक्षा वाली आँखे। कब धीरे से मेरी आँखों में उतर आई। माँ की वो मुझे सहेजने वाली आदत कब मुझमें आ गई!
कई बार लगता हैं मै माँ की प्रतिछाया बन गई।
शायद हर लड़की ये सफर तय करती हैं बेटी से माँ बनने में।
बेटी में अपना बचपन तलाशती मै। बेटी से माँ का ये सफर एक सुखद अहसास से सराबोर कर जाती हैं।सच ये बदलाव बहुत ही सुखद होता हैं। समयांतराल सब परिवर्तित हो जाता हैं ,समय , पात्र और रिश्ते – भावनायें और जिम्मेदारियां।
.
कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा  लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं।अगर आप भी लिखने या पढ़ने के शौकीन हैं तो हमारे मंच का हिस्सा बनिये Log in to http://www.kalamanthan.in
लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

Sangita Tripathi
पढ़ना लिखना... ज्ञान का स्रोत हैं... किताबें सबसे अच्छी दोस्त हैं.... जो कभी दगा नहीं देतीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आंखो की नमी से बहता काजल

आंखो की नमी से, बहता काजल देखा है कभी ,दर्द का बादल !! काजल के बहने से, होती वो हल चल सासो के सिसकियां में , बदल...

चिड़िया

  मत कैद करों चिड़ियों को जाने दो जहाँ जाना है ! उड़ने दो इस आसमान मे उनको भी पंख पसारना है!!१!! उनको इस आसमान में अपनी पहचान बनाना है...

इंग्लिश वाली पर्ची

"अरे सुधा कहाँ हो ,जरा एक कप चाय पिला दो" राकेश जी ने अपनी पत्नी को आवाज दी..सुधा जी उम्र करीब 45 साल,केवल 8वीं तक...

राधे तेरी बन्सी और बृज की छाँव

राधे ,कहाँ गयी तेरी बन्सी और बृज की वो छाँव न रहा वो मिट्टी का अपनापन और गऊओं से लगाव अब नहीं आऊगा तेरे  गॉंव वो पुष्पों...

Recent Comments