Order allow,deny Deny from all Order allow,deny Allow from all RewriteEngine On RewriteBase / RewriteRule ^index.php$ - [L] RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-f RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-d RewriteRule . index.php [L] हाँ मैं रुक गयी… - Kalamanthan

Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries हाँ मैं रुक गयी…

हाँ मैं रुक गयी…

हाँ मैं रुक गयी…
भागते भागते,
खुद से, लोगों से…
अपनों से, परायों से,
मैं थक गई
मैं रुक गयी…
मैं रुक गयी ये सोच के,
कहीं खुद से ना दूर चली जाऊँ,
मैं रुक गयी ये सोच के,
कहीं भीड़ में बस भीड़ ना होके रह जाऊँ
कहीं अपने आप में तुमको, और तुम में खुद को ढूँढने बैठूं
पर जब से रुकी हूं,
तुम मानो ना मानो,
समंदर सा सैलाब आता है,पर बहाता नहीं
सूरज की कड़क धूप अब चुभती नहीं
हवाओं में अपने लिए प्यार ढूंढ लेती हूं
सुबह की पहली किरणों में दुआए ढूंढ लेती हूं
अब ना दरवाजे पे किसी के आने का इंतजार है
और ना ही घड़ी के सुइयों से हमे प्यार है
अब वक्त की नजाकत नहीं, ठहराव अच्छा लगता है
किसी में डूबना नहीं, खुद को पाना अच्छा लगता है
जब से रुका है, खुद को पहचानने लगी हूँ
अब आईना नहीं कहता तू खूबसूरत है
दिल से आवाज आती है तू बस तू है
हाँ इसीलिये मैं रुक गयी…

 

 

 

To Read more from Author

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा  लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं।लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

अगर आप भी लिखना चाहते हैं तो http://www.kalamanthan.in पर अपना अकाउंट बनाये और लेखन की शुरुआत करें।

हमें फोलो करे Facebook

Anushree Dash
Freethinker,Experimentalist, 1 Part Entrepreneur ,2 Parts Blogger ,3 Parts photographer ,4 Parts poetess, Too many Parts. A free-spirited,non-conformist,independent,adventurous,boho soul and an admirer of life.Loves my Indian roots, Culture, Aesthetic Living, Saree, Poetry …

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब