Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Writing Contest Hindi Story मां का सपना

मां का सपना

 

शाम के 5 बज गए, एक एक कर सभी मरीज जा चुके थे। बाकी बचे कामों की जानकारी लेने के लिए, डॉ अभय ने अपनी सहायक मिताली को अपने केबिन में बुलाया।
“हैलो सर, मैं अंदर आ सकती हूं”? मिताली ने पूछा।
हां, डॉ अभय ने इशारे से उत्तर दिया।
मिताली सभी कामों की सूची उन्हे बताने लगी।
डॉ अभय उसे सुनते जा रहे थे और साथ ही आवश्यक दिशानिर्देश भी दे रहे थे।उनका अस्पताल शहर का सबसे प्रतिष्ठित अस्पताल था। सारे काम ख़त्म होने पर डॉ अभय ने जब मिताली को जाने को कहा, तो मिताली ने उनकी तरफ एक नीले रंग का लिफाफा बढ़ा दिया।
“सर, आपके लिए एक चिट्ठी आई है”।
“मेरे लिए”?, डॉ अभय आश्चर्य से बोले इस टेलीफोन के जमाने में पत्र किसने लिखा है। अभय ने नाम देखा, तो सुंदर लिखावट में उनके पिता का नाम अंकित था।हाथ में पत्र लिए अभय असमंजस की स्थिति में थे।फोन की सुविधा होने के बाद भी पिताजी ने उन्हें पत्र क्यों लिखा? विचारों से निकल उन्होंने मिताली को जाने को बोला और ख़ुद पत्र पढ़ने लगे।
प्रिय अभय,
शुभाशीष! मुझे पता है तुम इसी उलझन में होगे कि मैंने फोन और विडियो कॉल की सुविधा होने के बावजूद तुम्हें पत्र क्यों लिखा। बेटा, मैं जो तुमसे कहना चाहता हूं शायद फोन पर नहीं कह पाता। पिता हूं ना, कभी भावनाओं को व्यक्त करना नहीं सीखा। इसीलिए मन की बात बताने के लिए पत्र का सहारा ले रहा हूं। तुम्हारी मां की बीमारी में कोई सुधार नहीं दिख रहा। यहां के डॉक्टर ने उन्हें किसी बड़े अस्पताल में जा कर इलाज करवाने को बोला है। बेटा तुम्हारी मां की जिद्द तो तुम जानते हो।मेरे कितनी बार समझाने पर भी, वो तुम्हारे पास शहर में जाके इलाज करवाने को राजी नहीं हुईं। तुम्हारी मां ने तो मुझे, तुम्हें कुछ भी बताने से मना किया था। तुम पूछोगे तो आज भी वो यही कहेंगी की सब ठीक है।
बेटा, तुम्हारे दादाजी की मृत्यु हार्टअटैक की वजह से हुई थी।गांव से शहर के अस्पताल ले जाने में काफी समय लग गया था। डॉक्टर ने बोला था, अगर वक्त पर उपचार किया जाता तो उनकी जान बचाई जा सकती थी। तेरी उम्र तब 2 साल की थी, तभी तेरी मां ने ठान लिया था वो तुझे डॉक्टरी पढ़ाएगी और जब तू डॉक्टर बन जाएगा तो गाव में एक बड़ा अस्पताल खोलेगा। लेकिन बेटा, पढ़ाई पूरी होने से पहले तुम शहर में नौकरी करने का निर्णय ले चुके थे। मां ने समझाना चाहा, पर तेरी ख़ुशी देख वो चुप हो गई। तुझे कभी भी अपने गांव में अस्पताल खोलने और गांव वालो की सेवा करने के लिए नहीं बोला। ना ही कभी अपने सपने के बारे में बताया। बेटा आज तेरी मां को अच्छे डॉक्टर और सारी सुविधाओं वाले अस्पताल की जरूरत है। हो सके तो अपनी व्यस्त दिनचर्या में से थोड़ा सा समय निकाल कर अपनी मां के पास आ जाओ।
तुम्हारे आने के इंतेजार में तुम्हारे माता पिता।।
पत्र पढ़ कर अभय की आंखें डबडबा गई और मन आत्मग्लानि से भर गया।उसने तुरंत ट्रेन की टिकट बुक की फिर मिताली को बता, अस्पताल से सीधा रेलवे स्टेशन की तरफ चल पड़ा।पूरे रास्ते उसके अंदर भावनाओं का सैलाब उमड़ रहा था। आज अगर पिताजी ने पत्र लिख कर उसे सारी बातों से अवगत नहीं कराया होता, तो वो अपनी मां के सपनों से हमेशा अनजान रहता।
ट्रेन की छुक छुक की आवाज के साथ उसका बचपन, चलचित्र की तरह उसकी आंखों के सामने था। कैसे उसकी मां ने हमेशा उसे प्रोत्साहित किया,उसका मनोबल बढ़ाया।उसे आज भी याद है। मां हमेशा कहती थी, मेहनत से हर सपने पूरे होते हैं। फिर मां ने, उसे क्यों नहीं बताया गांव में अस्पताल खोलने के अपने सपने के बारे में? शायद गलती उसी की थी। शहर की चकाचौंध भरी रोशनी में, वो मां की आंखो का सपना पढ़ ही नहीं पाया। भावनाओं के समंदर में गोते लगाते डॉ अभय की आंख लग गई।
जब सुबह आंख खुली तो ट्रेन उनके गांव के स्टेशन पर रुकी हुई थी।अभय को घर की तरफ जाते हुए, गांव की गलियों में  अपना सुनहरा बचपन दिख रहा था।
घर पहुंचने पर दरवाजा मा ने खोला, उनका चेहरा खुशी से चमक उठा। अभय ने जैसे पैर छुए उन्होंने उसे गले से लगा लिया। अभय की आंखो के आंसु अपना बांध तोड़ चुके थे।वो मां को पास बिठा बोला, “मैं आ गया मां। आपके सपने को पूरा करने। मां आश्चर्यचकित हो उसे देख रही थी”।
अभय ने उनकी गोद में सिर रख आंखे बन्द कर ली। हां मां, मैं वादा करता हूं। आपका बेटा, डॉ अभय गांव में एक बड़ा अस्पताल बनवाएगा, किसी को भी अच्छे डॉक्टर से इलाज के लिए शहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
“मुझे माफ़ कर दीजिए मां दौलत और शोहरत की चाह में, मैं असली खुशियों के मायने भूल गया था। भूल गया था आपने मुझे डॉक्टर बनाया ताकि मैं लोगो की सेवा कर सकूं”।
अभय की बाते सुन, मां की आंखो से खुशी के आसूं निकल पड़े। पिताजी दरवाजे पर खड़े दोनों मां बेटे को मंत्र मुग्ध हो देख रहे थे। देर से ही सही उनके बेटे को #खुशियों के मायने का सही मतलब तो समझ आया।

 

 

 

To read more from Author

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा  लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं।लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

अगर आप भी लिखना चाहते हैं तो http://www.kalamanthan.in पर अपना अकाउंट बनाये और लेखन की शुरुआत करें।

हमें फोलो करे Facebook

  • TAGS
khushi kishore
I am a freelance writer.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...

Recent Comments

Manimala Chatterjee on गुलाब
Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब