Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries घमंड और गुस्सा

घमंड और गुस्सा

 

क्रोध क्या है कोई नहीं जान पाएं
इसकी आग से तो महाकाल भी न बच पाएं
परशुराम, सती कथा कुछ प्राचीन उदाहरण है
क्रोध की आग ने करवाया हर बार तांडव है
क्रोध एक आग उगलता ज्वालामुखी है
भस्म जिससे होता हर जीव है

दुनिया में सबसे घमंडी इंसान है
समझता खुद को सर्वशक्तिमान है
परंतु हार जाता जब भी प्रकृति करती प्रहार है
एक वायरस ने ही मचाया हाहाकार है
घमंड इंसान का चकनाचूर है
बिना मतलब ही इंसान इतना मग़रूर है

क्रोधित अब प्रकृति हुई है
भयभीत जिससे यह दुनिया हुई है
जब जब इंसान ने घमंड किया है
प्रकृति ने स्वयं ही जवाब दिया है
घमंड और गुस्सा दोनों एक विकार है
पश्चताप पर खत्म होता इसका आकार है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सवालों पर बेड़ियाँ – पितृसत्ता की तिलमिलाहट

अक्सर सोचती हूँ की न लिखूं। ये रोज़मर्रा की बातें हैं और घटियापन ,ओछेपन और बीमार मानसिकता पर तो जी ही रहें हैं हम। अपने काम...

अंतरज्वाला

इधर कुछ दिनों से अंजलि बैंक से काफ़ी देर से लौटने लगी थी। अंजलि और अजय दोनों कामकाजी थे। अंजलि बैंक में और अजय...

दो दिल मिले चुपके-चुपके

  "निलेश आज जो हुआ वो ठीक नहीं था" " हां सीमा इस बात का मुझे भी एहसास है कि हमसे अन्जाने में बहुत बड़ी गल्ती...

अब बस

  रूपा सुबह सुबह हाँथ में चाय का कप लिए हॉल में बैठकर टीवी देखते हुए चाय पी रही थी कि तभी उसको डोरबेल की...

Recent Comments