Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries ढलता सा सूरज

ढलता सा सूरज

ढलता सा सूरज था
रौशनी सी चमक रही थी
वही दूर एक चेहरे पर
रौनक सी झलक रही थी
चिड़ियों की चहचहाट थी
और था अजीब सा शोर
शायद मेरे मन में घुस आया था
एक प्यारा सा चोर
अचानक फिर हवाओ की रफ़्तार कुछ
इस कदर तेज हो गयी
की उसकी एक झलक की आस में
मेरी नब्ज भी कुछ तेज हो गयी
फ़िर साँझ की धुन्द का कहर
छाया इस कदर
कि वो उस धुन्दं मे अचानक
कहीं खो गयी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

How to Teach Writing Skill to Toddlers?

Being into Early childhood education and parenting, I was always asked varied questions by young, anxious mothers. Apart from the initial hiccups of toilet training...

अंतर्द्वन्द

आज 'निशा 'का दिल जोर जोर से धड़क रहा था। न जाने कितना अंतर्द्वन्द मन में था ।"क्या मैं ग़लत तो नहीं कर रही ।"...

विश्व हृदय दिवस पर..❤️

"पिछले दिनों घर में पुताई के बाद परदे लगे तो एक खिड़की के परदे बहस का मुद्दा बन गए . हुआ ये कि उस...

Torchbearer

I could hear my phone ringing in the bedroom. I rushed to pick it up. It was Radha. Congratulations! You've been selected in UPSC! I was...

Recent Comments