Phone No.: +917905624735,+919794717099

Email: support@kalamanthan.in

Home Poetries ढलता सा सूरज

ढलता सा सूरज

ढलता सा सूरज था
रौशनी सी चमक रही थी
वही दूर एक चेहरे पर
रौनक सी झलक रही थी
चिड़ियों की चहचहाट थी
और था अजीब सा शोर
शायद मेरे मन में घुस आया था
एक प्यारा सा चोर
अचानक फिर हवाओ की रफ़्तार कुछ
इस कदर तेज हो गयी
की उसकी एक झलक की आस में
मेरी नब्ज भी कुछ तेज हो गयी
फ़िर साँझ की धुन्द का कहर
छाया इस कदर
कि वो उस धुन्दं मे अचानक
कहीं खो गयी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आंखो की नमी से बहता काजल

आंखो की नमी से, बहता काजल देखा है कभी ,दर्द का बादल !! काजल के बहने से, होती वो हल चल सासो के सिसकियां में , बदल...

चिड़िया

  मत कैद करों चिड़ियों को जाने दो जहाँ जाना है ! उड़ने दो इस आसमान मे उनको भी पंख पसारना है!!१!! उनको इस आसमान में अपनी पहचान बनाना है...

इंग्लिश वाली पर्ची

"अरे सुधा कहाँ हो ,जरा एक कप चाय पिला दो" राकेश जी ने अपनी पत्नी को आवाज दी..सुधा जी उम्र करीब 45 साल,केवल 8वीं तक...

राधे तेरी बन्सी और बृज की छाँव

राधे ,कहाँ गयी तेरी बन्सी और बृज की वो छाँव न रहा वो मिट्टी का अपनापन और गऊओं से लगाव अब नहीं आऊगा तेरे  गॉंव वो पुष्पों...

Recent Comments