Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries राधे तेरी बन्सी और बृज की छाँव

राधे तेरी बन्सी और बृज की छाँव

राधे ,कहाँ गयी तेरी बन्सी और बृज की वो छाँव
न रहा वो मिट्टी का अपनापन और गऊओं से लगाव
अब नहीं आऊगा तेरे  गॉंव
वो पुष्पों की सरसता और सरोवर का वहाव
लोगो का अपनापन और गैरो से लगॉव
याद बहुत आता आएगा है तेरा वो गॉंव
वो बरगद पर झूला और वृक्षों का झुकाव
बारिश की बूंदो संग मन का लगाव
शायद कभी नहीं ढूंढ पाउगा, में ऐसा कोई गॉंव
वो चन्दन सी चादिनी में फूलों की छॉव
कोयल की मृदु भाषा और यमुना का बहाव
याद बहुत आता है मेरा वो गॉंव
वो माखन की गगरी और दूध के लिये टकराव
गऊओ और बछड़ों संग क्रीड़ा का भाव
शायद अब कभी ढूढ़ ना पाउगा मेरा वो गॉव

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मेरा अपना खुद का घर

मैं....मैं हूँ, यह मेरा वजूद है!किसने दिया तुमको यह हक, कि तुम खुद को मेरा भगवान समझ बैठे। रिश्ते में बंधी थी जीवनसंगिनी थी, बराबर का...

औरत के सपने

एक औरत के सपने जो औरत ने कभी देखे ही नहीं अपने लिए, विरासत में मिले सपने मुझे मां से मां को अपनी मां से बचपन से बताया...

ममता की आस

  चंदा है तू , मेरा सूरज है तू बंगले के बगल के मोड़पर पान की दुकान पर रेडियों पर गाना बज रहा था।यूँ तो श्यामा...

ये कैसी मानसिकता?

        नारी जीवन का सबसे सुंदर रूप माँ का माना जाता है और वह माँ तभी बनती है जब उसका शारीरिक विकास पूर्ण हो।एक...

Recent Comments