Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Writing Contest Hindi Story सितंबर - कहानी लेखन प्रतियोगिता

सितंबर – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ?
क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ?

अगर हाँ तो हम आपके लिए शुरू कर रहें हैं हर माह की लेखन प्रतियोगिता।
नई बदलती दुनिया को अपनी निगाह से देखें और शब्दों में ढालें।
हम आपके लिए लेकर आए हैं सितंबर माह की कहानी लेखन प्रतियोगिता । प्रतियोगिता में भाग लेने हेतु नियम इस प्रकार हैँ :
1. यहाँ हम आपको एक पंक्ति दे रहें हैं , आपकी कहानी में इस पंक्ति का प्रयुक्त होना अनिवार्य है अर्थात् आपकी कहानी में यह पंक्ति होनी ही चाहिए|
2. आपकी कहानी मौलिक, अप्रकाशित व अप्रसारित होनी चाहिए ।
3. कहानी निम्नतम 500 तथा अधिकतम 2500 शब्दों की होनी चाहिए अर्थात् आपकी कहानी (500-2500) शब्दों की हो ।
4. कहानियाँ भेजने की अंतिम तिथि 25 /09 /2020 (25 अगस्त 2020) है
5. कहानियाँ किसी भी विषय पर हो सकती हैं (प्रेम, काल्पनिक,हॉरर,वात्सल्य,रहस्य, रोमांच, हास्य इत्यादि)
6. आप अधिकतम दो कहानियाँ भेज सकते हैं ।
7. पुरस्कृत रचना को समूह की ओर से अमेज़न गिफ़्ट वाउचर प्रदान किये जायेंगे।
8. एडिटिंग टीम कहानी के नाम व कुछ महीन त्रुटियां ठीक करने या बदलने का अधिकार रखती है।
सितंबर महीने की कहानी के लिए दी गयी पंक्ति आपने कई बार सुनी होगी और दिल के करीब भी होगी। सुप्रसिद्ध लेखिका ,कवियत्री अमृता प्रीतम की कलम से निकली खूबसूरत पंक्ति

“मैं तुम्हे फिर मिलूंगी कहाँ और कैसे मैं नहीं जानती ।”

इस पंक्ति को अपनी कहानी में इसे अपने तरीके से प्रयोग करें।
कहानी को कलामंथन की वेबसाइट पर डालें और #सितंबर_लेखन_प्रतियोगिता डालना न भूले।
आखिरी तारीख है कहानियाँ भेजने की अंतिम तिथि 25 /09 /2020 (25 सितम्बर 2020) है
अत: आप सभी से अनुरोध है कि अधिक से अधिक संख्या में प्रतियोगिता में भाग लेकर इसे सफल बनाएँ साथ ही अपने परिचित रचनाकारों भी इस आयोजन से जोड़ें ।
अपने लेखन को दीजिये कल्पना की उड़ान
कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।
हमें फोलो करे Facebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...

Recent Comments

Manimala Chatterjee on गुलाब
Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब