Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries लॉक डाउन में तो कमाल हो गया

लॉक डाउन में तो कमाल हो गया

लॉक डाउन में तो कमाल हो गया
जहाँ परिवार में न होती थी आपस में बातें ,
जोड़ दिया उन सब टूटे ख्याबों को ,
समय दिया अब छूटे रिश्तों को ,
फैमिली अब परिवार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
स्कूल ,कॉलेज ,दफ्तर सब बंद हो गए ,
दोस्तों का साथ छूट गया ,
जिन बातों को भूल गए थे ,
अब उन बातों का अम्बार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
दिमाग भी देखो कितना तेज हो गया ,
मोबाइल में नहीं जानते थे जिन फीचर को ,
उन्हें जानने का क्रेज हो गया ,
दूर रहकर भी ,ज़ूम व्ह्ट्सअप से मिलाप हो गया
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
बिना कामवाली के घर का हर काम हो गया ,
जरुरत के हिसाब से जीना आसान हो गया ,
बाहर का खाना भूल गए ,
अब घर का खाना स्वाद हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
भगवान को खोजते थे मंदिरों में ,
मंदिर के सभी पट अब बंद हो गए हैं ,
जरूरमंदों की मदद करने वाला ,
डॉक्टर ,पुलिस ,सफाईकर्मी अब भगवान हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
काम करते –करते थक गए थे ,
रविवार के अलावा एक छुट्टी और मांगी थी ,
देखो अब हर दिन रविवार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
 प्रकृति हो गई थी प्रदूषित बहुत ,
गाड़ियों का ओड –इवन कई बार लगा ,
फिर भी नहीं बदली इसकी सूरत ,
देखो आज पूरा वातावरण साफ़ हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
किताबें बहुत खरीदी थी हमने ,
बंद अलमारियों को देखा तो,
किताबों अम्बार हो गया ,
आज खोली अलमारी तो उन किताबों का ,
फिर से दीदार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

किसान

जिस देश में अन्नदाता का अपमान हो, ड्रग्स की पुड़िया की चर्चा पर घमासान हो, अन्नदाता के संघर्ष पर किसी का ना ध्यान हो, बेवजह की खबरों...

संजोग

मुसाफिर हूँ यारों ना घर है ना ठिकाना, मुझे चलते जाना है ना जाने क्यों आज जितेंद्र का ये पुराना गाना बहुत याद आ रहा...

नेकी

सुनीता एक बहुत ही छोटे परिवार में जन्मी थी। बारह वर्ष की उम्र में ही उसकी माँ ने उसे बर्तन मांजने के काम में...

पछतावा

सुनिए ये एड्रेस बता सकेंगी। एक अजनबी की आवाज़ आयी और गेट खोलते हुए ही उसने पीछे मुड़ कर देखा, ये तो सुबोध ही...

Recent Comments