Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries लॉक डाउन में तो कमाल हो गया

लॉक डाउन में तो कमाल हो गया

लॉक डाउन में तो कमाल हो गया
जहाँ परिवार में न होती थी आपस में बातें ,
जोड़ दिया उन सब टूटे ख्याबों को ,
समय दिया अब छूटे रिश्तों को ,
फैमिली अब परिवार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
स्कूल ,कॉलेज ,दफ्तर सब बंद हो गए ,
दोस्तों का साथ छूट गया ,
जिन बातों को भूल गए थे ,
अब उन बातों का अम्बार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
दिमाग भी देखो कितना तेज हो गया ,
मोबाइल में नहीं जानते थे जिन फीचर को ,
उन्हें जानने का क्रेज हो गया ,
दूर रहकर भी ,ज़ूम व्ह्ट्सअप से मिलाप हो गया
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
बिना कामवाली के घर का हर काम हो गया ,
जरुरत के हिसाब से जीना आसान हो गया ,
बाहर का खाना भूल गए ,
अब घर का खाना स्वाद हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
भगवान को खोजते थे मंदिरों में ,
मंदिर के सभी पट अब बंद हो गए हैं ,
जरूरमंदों की मदद करने वाला ,
डॉक्टर ,पुलिस ,सफाईकर्मी अब भगवान हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
काम करते –करते थक गए थे ,
रविवार के अलावा एक छुट्टी और मांगी थी ,
देखो अब हर दिन रविवार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
 प्रकृति हो गई थी प्रदूषित बहुत ,
गाड़ियों का ओड –इवन कई बार लगा ,
फिर भी नहीं बदली इसकी सूरत ,
देखो आज पूरा वातावरण साफ़ हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II
किताबें बहुत खरीदी थी हमने ,
बंद अलमारियों को देखा तो,
किताबों अम्बार हो गया ,
आज खोली अलमारी तो उन किताबों का ,
फिर से दीदार हो गया ,
लॉक डाउन में तो कमाल हो गया II

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आधी किताब की पूरी विवेचना – सोशल मिडिया में साहित्य

  इंस्टेंट के नाम पर हमे इंस्टेंट खाना , इंस्टेंट मनोरंजन , इंस्टेंट फेम और इंस्टेंट नेम सब चहिये। और अक्सर इंस्टैंट का चक्रव्यूह हमे...

कवि महाप्राण सूर्यकांत त्रिपाठी ‘ निराला’

  वर दे, वीणावादिनी , वर दे! प्रिय स्वतंत्र- रव अमृत-मंत्र तव भारत में भर दे! काट अंध- उर के बंधन स्तर बहा जननी ज्योतिर्मय निर्झर कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर, जगमग...

बांझाकरी की प्रेमिल कविता

ये लेख कलामंथन समूह की लेखिका प्रियंका गहलोत द्वारा लिखित है। आज के दौर में पत्राचार का सिलसिला थम चुका है। कलामंथन ने दिया...

मेरे प्रिय रेडियो

मेरे प्रिय रेडियो, तेज हवाओं ने खिड़की के पल्ले को आपस में टकराने पर मजबूर कर दिया है। मैं भी बिस्तर से उठ कर अलसाई...

Recent Comments