Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Blogs हौसला हो यदि बुलंद तो मुश्किल नहीं करेगी तंग

हौसला हो यदि बुलंद तो मुश्किल नहीं करेगी तंग

सफलता प्राप्त करने हेतु अनेक मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।
राह में अनगिनत बाधाएं आती हैं।
मुश्किलें हिम्मत तोड़ना चाहती हैं।
मुश्किलों से भयभीत होने की बजाय मुश्किलों से मुँह मोड़ने की बजाय यदि हम मुश्किलों का सामना डटकर करें। तो निःसंदेह हम एक दिन अवश्य सफलता प्राप्त करेंगें। इसलिए परिस्थिति बेशक प्रतिकूल हो पर हौसला बुलंद रखिये।
आपसे ईर्ष्या करने वाले हिम्मत तोड़ना चाहेंगे- ईर्ष्यालु प्रवृति के व्यक्ति अद्भुत तरह के होते हैं। उन्हें ख़ुद की ख़ुशी की तनिक भी परवाह नहीं होती है।
पर, हाँ यदि दूसरे व्यक्ति ख़ुश हैं या तरक्की के पथ पर अग्रसर हैं तो उन्हें अत्यंत दुःख महसूस होता है। दुःख की अवस्था में ईर्ष्यालु व्यक्ति चाहेंगे आपका हिम्मत तोड़ना, आपको दिग्भ्रमित करना। पर स्मरण रहे, आप निरंतर सार्थक प्रयास करते रहिए।
सफलता जब तक न मिले नकारात्मक विचार पनपे ही मत दीजिए मन में। ईर्ष्यालु व्यक्ति को सबक सिखाने हेतु निरंतर आप कुछ अलग करते रहिए। थक-हारकर ख़ुद आपके विषय में बुरा सोचना वे बंद कर देंगे।

मुश्किलों से मुँह मत मोड़ें प्रतिकूल समय में- जब मन में कुछ बड़ा प्राप्त करने की चाहत होती है, तो राह में बाधाएं भी बड़ी-बड़ी आती हैं। इसलिए निरंतर कड़ी मेहनत करते रहें।

मुश्किलों से घबराएं नहीं बल्कि मुश्किलों से निपटने का उपाय ढूंढें।
मुश्किल ख़ुद-ब-खुद अपने कक्ष की ओर वापस लौट जाएगी यदि हम हौसला रखेंगे बुलंद हर पल।
मन में यह विश्वास रखिये सर्वदा कि सफलता आज न सही कल निश्चित ही प्राप्त होगी। यकीन मानिए जब से आप मन में इस बात को बैठा लेंगे, कभी भी किसी भी बाधा से आप नहीं घबराएंगे। और आपको वर्तमान में न सही पर भविष्य में सफलता प्राप्त ज़रूर होगी।
Kumar Sandeep
अपनी कलम के माध्यम से ज़िंदगी से मिले दर्द व अनुभवों को कलमबद्ध करने का एक छोटा-सा प्रयत्न।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...

Recent Comments

Manimala Chatterjee on गुलाब
Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब