Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Writing Contest बाबुल की बिटिया

बाबुल की बिटिया

सावित्री देवी के घर में आज सुबह से ही बड़ी चहल-पहल थी। सावित्री देवी की खुशी का तो कोई ठिकाना ही ना था। खुशी के मारे उनके कदम एक जगह पर टिक ही नही रहे थे।

सावित्री देवी आखिर खुश भी क्यों ना हो ? उनकी इकलौती बेटी सुनयना आज पूरे 2 वर्षों के बाद अपनी पढ़ाई पूरी करके शहर से घर वापस आ रही थी। सुनयना मे तो जैसे सावित्री देवी और ठाकुर साहब दोनो की जान बसती थी।उनका बस चलता तो वो सुनयना के बाहर पढ़ने जाने के फैसले को कभी भी ना मानती।
मगर जब सुनयना ने उन्हें समझाया,कि उसके उज्जवल भविष्य के लिए उन्हें उसे बाहर पढ़ने के लिए भेजना ही होगा, तो सुनयना का मन रखने के लिए अपने दिल पर पत्थर रखकर उन्होंने उसे बाहर पढ़ने भेजने के लिये अपनी हामी भर दी थी।
अपने ही ख्यालों में खोई हुई सावित्री देवी जब यही सब सोचे जा रही थी, तभी पीछे से सुनयना ने आकर उनकी आंखों पर हाथ रखते हुए कहा, पहचानो कौन ?  सावित्री देवी ने मुस्कुराते हुए सुनयना के हाथों को चूमते हुए कहा, तुम्हें तो बिना देखे, बिना तुम्हारी आवाज सुने भी , मैं लाखों की भीड़ में से पहचान सकती हूँ।
सुनयना भी मुस्कुराते हुए माँ के गले मिलकर बोली, “ओह माँ, मेरी प्यारी माँ, वहां शहर में सब कुछ था, मगर जानती है , मैंने वहाँ हर पल आपको कितना मिस किया।” सावित्री देवी ने भी आँसू भरी आँखो से सुनयना को देखते हुए कहा,” मैंने भी तुम्हें हर पल बहुत याद किया,बेटा। तुम्हारे बिना एक-एक पल मुझे एक-एक युग जैसा लगता था। मगर अब तुम आ गई हो, बस अब एक पल के लिए भी तुम्हें अपनी आँखों से दूर नहीं होने दूंगी।”
“वैसे भी अब बहुत हो गई पढ़ाई-लिखाई। बहुत सारे अच्छे घरों से तुम्हारे लिए एक से बढ़कर एक रिश्ते आ रहे हैं। अब तो बस किसी अच्छे से घर मे तुम्हारा रिश्ता तय करके तुम्हारे हाथ पीले कर देने हैं।”
यह सुनते ही सुनयना ने गुस्से से कहा, “अच्छा माँ,अभी तो आप कह रही थी कि एक पल के लिए आंखों से दूर नहीं होने दूंगी,और अगले ही पल मुझे खुद से हमेशा के लिये दूर भेजने की तैयारियाँ कर रही है।”  तब माँ ने मुस्कुराते हुए कहा, ” यह तो दुनिया की रीत है बेटा, इसे तो हर माँ-बाप को निभाना पड़ता है। मगर तू फिक्र ना कर, बिना तेरी मर्जी के कुछ भी नहीं होगा।”
ठाकुर साहब ने आते ही कहा, “बिटियां अब हमेशा के लिए आ गई है , यही तुम्हारे पास ही रहने वाली है। जब चाहो , जितनी चाहो,उतनी बातें करना। मगर अभी पहले उसको कुछ खिलाओ पिलाओ। सुबह से तो उसके लिए इतनी तैयारियाँ की थी, अब चलो जी भर कर उसकी पसंद के सभी पकवान उसे खिलाओ।”
सावित्री देवी ने भी मुस्कराकर कहा, “सच कह रहे हैं आप बिटिया से बाते करने में तो मैं सब बिल्कुल भूल ही गई थी।” फिर उन्होंने सुनयना को पास बिठाकर उसकी पसंद के सभी पकवान परोसकर खुद अपने हाथो से उसे खाना खिलाया।
सुनयना की चंचल, शोख  खिलखिलाती मुस्कुराहटों से सावित्री देवी का घर फिर से जैसे खुशियों से महक उठा था। अब ठाकुर साहब और सावित्री देवी जल्द से जल्द अपनी खूबसूरत बेटी का कन्यादान कर अपनी सबसे बड़ी जिम्मेदारी को अच्छे से पूरी कर देना चाहते थे।
सुनयना के लिए बड़े-बड़े घरों से लोग अब रोज़ ही रिश्ते लेकर आने लगे।आखिरकार सुनयना ने रोज़-रोज़ के इन नए रिश्तो से घबराकर ठाकुर साहब को बता दिया, कि “वह अपने कॉलेज के दोस्त समीर को बहुत पसंद करती है। वो एक बहुत ही अच्छा लड़का है। मगर वो अनाथ है। उसका इस दुनिया में कोई भी नहीं है।”
“वो अभी पूरी मेहनत करके अपना करियर बनाने मे लगा है। जैसे ही वह कुछ बन जाएगा ,वह सुनयना के माता-पिता से उसका हाथ माँगने आएगा।” यह सब सुनकर ठाकुर साहब और सावित्री देवी के पैरो तले से तो जमीन ही खिसक गई।
ठाकुर साहब ने भी कड़े शब्दों में अपना फैसला सुनयना को सुना दिया। उन्होंने कहा ,”हमारी इकलौती बेटी होने की वजह से हमने तुम्हें  हमेशा अपनी पलकों पर बिठा कर रखा । तुम्हारी हर जिद को माना मगर इसका मतलब यह नहीं है कि हम तुम्हारी हर नाजायज ज़िद को भी पूरी करेंगे।किसी भी एरे-गैरे लड़के से, बिना उसके कुल या धर्म को जाने , हम अपनी इकलौती बेटी का रिश्ता कभी भी नहीं करेंगे।”
यह सुनकर सुनयना एकदम दुःखी हो गई।उसे ये अच्छी तरह से पता था की समीर एक बहुत अच्छा लड़का था और वो उसे हमेशा खुश रखेगा। सबसे बड़ी बात वो उससे बेइंतहा मोहब्बत करती थी। मगर ठाकुर साहब और सावित्री देवी उसकी एक भी दलील सुनने को तैयार ना थे।
जिस बेटी के बिना मांगे, उन्होंने उसकी सारी ख्वाहिशें हमेशा से पूरी की थी, उसकी जिंदगी के सबसे बड़े फैसले को लेने का  अधिकार उससे छीन लिया गया था। बिना उसकी मर्जी के उसका रिश्ता ठाकुर साहब ने अपने ही बराबरी वाले एक खानदान में तय कर दिया।
अब सुनयना के पास इसके अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था। उसने अपनी सगाई के एक दिन पहले अपने माता-पिता के नाम एक पत्र लिखा।उस पत्र मे सुनयना ने लिखा,
पिताजी,
“आपने मुझे मेरे जीवन की हर खुशी दी। मुझे हमेशा राजकुमारियों सा जीवन दिया। मगर मेरे जीवन की सबसे बड़ी खुशी को आपने मुझे भूलने का फरमान सुना दिया। यकीन मानिए पिताजी, मैंने पूरी कोशिश की कि मैं समीर को भूल जाऊं मगर उसे भूलना मेरे बस में नहीं है। हो सके तो मुझे माफ कर दीजिएगा
माँ,” मैं कभी आपकी अच्छी बेटी नहीं बन पाई। मैं आज हमेशा के लिए यह घर छोड़ कर जा रही हूँ। अगर भगवान ने चाहा, तो” मैं तुम्हें फिर मिलूंगी, कहाँ और कैसे मैं नहीं जानती”।
आपकी नालायक और अभागी बेटी
सुनयना।
पत्र पढ़कर तो ठाकुर साहब और सावित्री देवी पर जैसे दुःखों का पहाड़ टूट पड़ा। सावित्री देवी ने पूरा घर छान मारा। ठाकुर साहब और उनके नौकरों ने पूरे गाँव में सुनैना को ढूंढ लिया। रात के उस वक्त तो शहर के लिये  कोई बस भी नहीं जाती थी। मगर उन्हें सुनयना कहीं भी नहीं मिली। सावित्री देवी ने बेतहाशा रोते हुए ठाकुर साहब से कहा,” हमने अपनी झूठी इज्जत और ज़िद से अपनी इकलौती बेटी को हमेशा के लिए खो दिया। अब क्या होगा वह कहाँ गई होगी, किस हाल में होगी।कम से कम एक बार हमें उस लड़के समीर से मिल तो लेना चाहिए था। क्या पता शायद सचमुच हमारी बेटी की खुशी उसी के साथ हो।”
 ठाकुर साहब ने भी रोकर कहा,” सच कहती हो सुनयना की माँ, सुनयना ही तो हमारी पूरी दुनिया थी, और दुनिया के डर से हम अपनी उसी बेटी की खुशियों के दुश्मन हो गए। काश सुनयना हमें जल्दी वापस मिल जाए। उससे मिलकर मै उसे ये बताना चाहता हूं कि उसकी खुशियों से बढ़कर मेरे लिए कुछ भी नहीं है।”
 अचानक सुनयना पलंग के नीचे से निकल कर अपने  माता-पिता के सामने आकर खड़ी हो गई। सुनयना को पलंग के नीचे से निकलता देख कर ठाकुर साहब को बचपन मे लुकाछिपी का खेल खेलती बेटी याद आ गई। ठाकुर साहब और सावित्री देवी ने दौड़कर अपनी प्यारी बेटी को गले लगाकर कहा,” हमें माफ कर दो बिटिया।”
तब सुनयना ने खिलखिलाकर हँसते हुए कहा, “आपको क्या लगा माँ और पिताजी,मैं  इतनी आसानी से आपका पीछा छोड़ दूंगी। मैं आपको और इस घर को छोड़कर कभी जा ही नहीं सकती।यदि आप समीर से मेरे रिश्ते के लिए ना भी मानते, तो मै भले ही सारी उम्र कुंवारी रह जाती,मगर कभी आपको इतना बड़ा दुःख देकर इस घर से नहीं जाती।  मैं सिर्फ यह चाहती हूं कि आप लोग एक बार समीर से मिल लीजिए अगर आपको समीर पसंद आएगा तभी मैं उससे शादी करूंगी।”
ठाकुर साहब सावित्री देवी और सुनयना तीनों की आंखों से झर-झर आंसू बहने लगे। ठाकुर साहब ने सुनैना से कहा, हम कल ही समीर से मिलने शहर चलेंगे।ये सूनकर  सुनयना खुशी से अपने पिता के गले मिलकर झूम उठी। ठाकुर साहब और सावित्री देवी भी बहुत खुश थे । आज उनकी प्यारी बिटिया ने सचमुच अपने बाबुल का सिर गर्व से बहुत ऊंचा कर दिया था।
Previous articleFashion Thinking
Next articleयकीन
sakina s
मैं सकीना। मुझे कविताएँ और कहानियाँ पढ़ने का शौक है। कथा-लेखन मेरे विचारों की अभिव्यक्ति का पसंदीदा माध्यम है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अत्याचार के ख़िलाफ़ कदम

सीमा एक बहुत ही सीधी,प्रतिभाशाली और सुंदर लड़की थी।उसके पिता जी रमेश शहर के किसी ऑफ़िस में गार्ड की नौकरी करते थे।सीमा तीन भाई...

मेरा अपना खुद का घर

मैं....मैं हूँ, यह मेरा वजूद है!किसने दिया तुमको यह हक, कि तुम खुद को मेरा भगवान समझ बैठे। रिश्ते में बंधी थी जीवनसंगिनी थी, बराबर का...

औरत के सपने

एक औरत के सपने जो औरत ने कभी देखे ही नहीं अपने लिए, विरासत में मिले सपने मुझे मां से मां को अपनी मां से बचपन से बताया...

ममता की आस

  चंदा है तू , मेरा सूरज है तू बंगले के बगल के मोड़पर पान की दुकान पर रेडियों पर गाना बज रहा था।यूँ तो श्यामा...

Recent Comments