Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Feminist थम जाती कलम भी आज

थम जाती कलम भी आज

थम जाती कलम भी आज
ठहर जाती उंगलियां भी आज
मैं लिखना चाहती हूं ‘ प्रेम ‘
लिख डालती हूं ‘ क्षोभ ‘
लिखना चाहती हूं ‘ वीरता ‘
लिख डालती हूं ‘ कायरता ‘
मैं लिखना चाहती हूं ‘ उम्मीद ‘
फिर यह कैसी नाउम्मीदी
अंक में भर लेती बार – बार
उस पीड़ा की कल्पना भी
जड़ कर देती मुझे
कैसे? कैसे झेली होगी
उसने पीड़ा अपार
मुखरित था जो घर – आंगन
पायल की रुनझुन से कल
आज सन्नाटे से
बन उठा सुर – श्मशान क्यूं
दूर – दूर तक विस्तृत
व्याप्त तिमिर अज्ञात
निरवता, शून्यता, अज्ञात
कब तक – कब तक
खंडित होती रहे मर्त्य स्त्री रूप?

Pic Credit :Internet

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

 

 

Previous articleयकीन
Next articleमौन विदुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब