Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Feminist थम जाती कलम भी आज

थम जाती कलम भी आज

थम जाती कलम भी आज
ठहर जाती उंगलियां भी आज
मैं लिखना चाहती हूं ‘ प्रेम ‘
लिख डालती हूं ‘ क्षोभ ‘
लिखना चाहती हूं ‘ वीरता ‘
लिख डालती हूं ‘ कायरता ‘
मैं लिखना चाहती हूं ‘ उम्मीद ‘
फिर यह कैसी नाउम्मीदी
अंक में भर लेती बार – बार
उस पीड़ा की कल्पना भी
जड़ कर देती मुझे
कैसे? कैसे झेली होगी
उसने पीड़ा अपार
मुखरित था जो घर – आंगन
पायल की रुनझुन से कल
आज सन्नाटे से
बन उठा सुर – श्मशान क्यूं
दूर – दूर तक विस्तृत
व्याप्त तिमिर अज्ञात
निरवता, शून्यता, अज्ञात
कब तक – कब तक
खंडित होती रहे मर्त्य स्त्री रूप?

Pic Credit :Internet

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

 

 

Previous articleयकीन
Next articleमौन विदुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अत्याचार के ख़िलाफ़ कदम

सीमा एक बहुत ही सीधी,प्रतिभाशाली और सुंदर लड़की थी।उसके पिता जी रमेश शहर के किसी ऑफ़िस में गार्ड की नौकरी करते थे।सीमा तीन भाई...

मेरा अपना खुद का घर

मैं....मैं हूँ, यह मेरा वजूद है!किसने दिया तुमको यह हक, कि तुम खुद को मेरा भगवान समझ बैठे। रिश्ते में बंधी थी जीवनसंगिनी थी, बराबर का...

औरत के सपने

एक औरत के सपने जो औरत ने कभी देखे ही नहीं अपने लिए, विरासत में मिले सपने मुझे मां से मां को अपनी मां से बचपन से बताया...

ममता की आस

  चंदा है तू , मेरा सूरज है तू बंगले के बगल के मोड़पर पान की दुकान पर रेडियों पर गाना बज रहा था।यूँ तो श्यामा...

Recent Comments