Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Feminist थम जाती कलम भी आज

थम जाती कलम भी आज

थम जाती कलम भी आज
ठहर जाती उंगलियां भी आज
मैं लिखना चाहती हूं ‘ प्रेम ‘
लिख डालती हूं ‘ क्षोभ ‘
लिखना चाहती हूं ‘ वीरता ‘
लिख डालती हूं ‘ कायरता ‘
मैं लिखना चाहती हूं ‘ उम्मीद ‘
फिर यह कैसी नाउम्मीदी
अंक में भर लेती बार – बार
उस पीड़ा की कल्पना भी
जड़ कर देती मुझे
कैसे? कैसे झेली होगी
उसने पीड़ा अपार
मुखरित था जो घर – आंगन
पायल की रुनझुन से कल
आज सन्नाटे से
बन उठा सुर – श्मशान क्यूं
दूर – दूर तक विस्तृत
व्याप्त तिमिर अज्ञात
निरवता, शून्यता, अज्ञात
कब तक – कब तक
खंडित होती रहे मर्त्य स्त्री रूप?

Pic Credit :Internet

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

 

 

Previous articleयकीन
Next articleमौन विदुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सवालों पर बेड़ियाँ – पितृसत्ता की तिलमिलाहट

अक्सर सोचती हूँ की न लिखूं। ये रोज़मर्रा की बातें हैं और घटियापन ,ओछेपन और बीमार मानसिकता पर तो जी ही रहें हैं हम। अपने काम...

अंतरज्वाला

इधर कुछ दिनों से अंजलि बैंक से काफ़ी देर से लौटने लगी थी। अंजलि और अजय दोनों कामकाजी थे। अंजलि बैंक में और अजय...

दो दिल मिले चुपके-चुपके

  "निलेश आज जो हुआ वो ठीक नहीं था" " हां सीमा इस बात का मुझे भी एहसास है कि हमसे अन्जाने में बहुत बड़ी गल्ती...

अब बस

  रूपा सुबह सुबह हाँथ में चाय का कप लिए हॉल में बैठकर टीवी देखते हुए चाय पी रही थी कि तभी उसको डोरबेल की...

Recent Comments