Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries औरत के सपने

औरत के सपने

एक औरत के सपने
जो औरत ने कभी देखे ही नहीं अपने लिए,
विरासत में मिले सपने
मुझे मां से मां को अपनी मां से
बचपन से बताया गया
अच्छा सा कोई घर मिल जाए
सुंदर का कोई वर मिल जाए
बच्चों संग घर खिल जाए
यही तो है हर औरत का सपना
वो को औरत ने कभी देखा ही नहीं अपने लिए।
शादी के बाद पति लेे जाए घुमाने को
अच्छा मिल जाए खाने को
बच्चे निकले आज्ञाकारी
फिर सुखी है ज़िन्दगी सारी
यही तो है हर औरत का सपना
जो उसने कभी देखा ही नहीं अपने लिए।
बुढ़ापे में जाकर भी सपनों की सूची थमाई गई,
कैसे सपने देखने हैं ये बात
तब भी समझाई गई।
बेटा बहू निकले सेवादार
पोते पोतियों संग वक़्त बीते मजेदार
यही तो है हर औरत का सपना
जो उसने कभी देखा ही नहीं अपने लिए

 

 

Pic Credit: Canva

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

Anita Bhardwaj
A special educator by profession. A reader,learner,writter, crafter . Love to learn something new.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब