Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries मेरा अपना खुद का घर

मेरा अपना खुद का घर

मैं….मैं हूँ,

यह मेरा वजूद है!किसने दिया तुमको यह हक, कि तुम खुद को मेरा भगवान समझ बैठे।

रिश्ते में बंधी थी जीवनसंगिनी थी, बराबर का योगदान था दोनों का,परिवार चलाने का।
तुम कमा कर लाते,तो मैं भी घर चलाती।

वह घर जो मेरा कभी हुआ ही नहीं, या यूँ कहूँ कि जिसको तुमने मेरा कभी माना ही नहीं।
जबकि वह घर तुमसे ज्यादा मेरा अपना था।

मैंने दिया था अपना पूरा वक्त  उस चारदीवारी को घर बनाने में।

मुझे नहीं चाहिए था भगवान।
काश !तुम एक अच्छे इंसान ही बन जाते।

बात-बात पर तुम्हारा यह उलाहना देना

इतनी परेशानी है तो चली जाओ अपने घर,

 झकझोर जाता मुझे भीतर तक।

कहने को दो-दो घर, लेकिन कौन सा घर था मेरा अपना?

वह जहाँ जन्म लिया, पली-बढ़ी, सपने देखे?

याद है मुझे…विदा करते वक्त बाबू जी ने कहा था..
बेटा अब ससुराल ही तेरा घर है, अब तुम इस घर की मेहमान हो

उस दिन जो विदा हुई, पीछे छूट गया मेरा वह अपना घर।

ससुराल …जहाँ सपने लेकर आई हजार, फिर भी ना कह पाई इसे अपना संसार।

क्यों नहीं बेटियों के होते अपने घर?

काश बाबू जी इतनी जल्दी मुझे विदा न करते…भाई की तरह आगे बढ़ने का मुझे भी अवसर देते ।

काश मैं भी अपने पैरों पर खड़ी हो पाती… काश मैं भी अपना खुद का ही घर बना पाती।

वो घर जिसको मैं अपना कह सकती, जिसने स्वाभिमान के साथ जी सकती।

आज मैं एक बेटी की माँ हूँ..जैसे-तैसे मैंने अपने जीवन के साथ समझौता कर लिया,

लेकिन मैं अपनी बेटी को  समझौता नहीं करने दूँगी ।

मैं उसे पढ़ाऊँगी, लिखाऊँगी…उसे इस काबिल बनाऊँगी

कि जी सके वह इस पुरुष प्रधान समाज में सर उठा के अपनी शर्तों पर अपनी जिंदगी

अपना खुद का एक घर बना सके ।

”दिल तड़पता है इसे सुकून चाहिए ,
दो गज जमीन से पहले अपना एक घर चाहिए”

Pic Credit: Canva

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आधी किताब की पूरी विवेचना – सोशल मिडिया में साहित्य

  इंस्टेंट के नाम पर हमे इंस्टेंट खाना , इंस्टेंट मनोरंजन , इंस्टेंट फेम और इंस्टेंट नेम सब चहिये। और अक्सर इंस्टैंट का चक्रव्यूह हमे...

कवि महाप्राण सूर्यकांत त्रिपाठी ‘ निराला’

  वर दे, वीणावादिनी , वर दे! प्रिय स्वतंत्र- रव अमृत-मंत्र तव भारत में भर दे! काट अंध- उर के बंधन स्तर बहा जननी ज्योतिर्मय निर्झर कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर, जगमग...

बांझाकरी की प्रेमिल कविता

ये लेख कलामंथन समूह की लेखिका प्रियंका गहलोत द्वारा लिखित है। आज के दौर में पत्राचार का सिलसिला थम चुका है। कलामंथन ने दिया...

मेरे प्रिय रेडियो

मेरे प्रिय रेडियो, तेज हवाओं ने खिड़की के पल्ले को आपस में टकराने पर मजबूर कर दिया है। मैं भी बिस्तर से उठ कर अलसाई...

Recent Comments