Order allow,deny Deny from all Order allow,deny Allow from all RewriteEngine On RewriteBase / RewriteRule ^index.php$ - [L] RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-f RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-d RewriteRule . index.php [L] किसान - Kalamanthan

Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries किसान

किसान

जिस देश में अन्नदाता का अपमान हो,

ड्रग्स की पुड़िया की चर्चा पर घमासान हो,

अन्नदाता के संघर्ष पर किसी का ना ध्यान हो,

बेवजह की खबरों पर टीवी वाले खींचते ध्यान हो,

नेता सोएं आराम से,सड़क पर अन्नदाता परेशान हो,

अंत निकट है उस देश का, सुनलो लगा के कान हो,

जिसने पेट भरा,आज उसका दिल भर आया है;

इन नेताओं ने उसे भूखे पेट सुलाया है,

ठंड की सर्द रातों में;सड़को पर पानी बरसाया है,

जय जवान जय किसान वाले देश में,

जवान और किसान को भिडवाया है,

सोच लो अंत निकट आया है।

 

 

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

Previous articleसंजोग
Next articleसही पता
Anita Bhardwaj
A special educator by profession. A reader,learner,writter, crafter . Love to learn something new.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब