Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Blogs पापामैन

पापामैन

अभी कुछ दिन पहले ‘नई वाली हिंदी ‘ पर विमर्श हो रहा था और मेरा कहना यही था की इस ‘नई वाली हिंदी ‘ में भी खूबसूरत लिखने वाले हैं।

बीती रात में अदरक वाली चाय के प्याले के साथ Nikhil Sachan की लिखी यह किताब खत्म हुई।

कुछ ऐसा जैसे नर्म धूप में यादों का गोला खुल जाए।यादें बचपन की जहाँ हम सबके अपने अपने पापा मैन है।

“पापामैन जो कुछ कुछ मां जैसे ही होते है। जिनका मन किसी बरगद के जितना विशाल और स्वभाव किसी झील के पानी जितना मीठा। “

कहानी यहीं अपने कानपुर की।
इस किताब में आपको मिलेगा ,शहर अपना (पड़ोसी ) और किरदार अपने जैसे।
आई आई टी कानपुर में पढ़ने वाली मिडिल क्लास घर से ताल्लुक रखती छुटकी। बड़ी चीज़ है अगर अपने शहर की लड़की इंजिनीरिंग करे वो भी आई आई टी से उस पर रैंक टॉपर । छुटकी ऐसी लड़की जिसे देखने तो मोहल्ले के लड़के इकठ्ठे होते लेकिन छेड़ने की हिम्मत कोई न करता ! वो MIT जा कर आगे पढ़ना चाहती है।
Image may contain: 3 people, indoor
उसके परिवार में है माँ पापा और बहन। मिडिल क्लास घर जहाँ बेटियाँ बेटों जैसी नहीं बस बेटियों सी ही दुलारी जाएँ और सशक्त की जाएँ। उनके हर सपने को उड़ान भरने का प्रोत्साहन मिले।
अपनी माँ जैसी ही माँ का किरदार जिसका जीवन किचन के राशन पानी सब्ज़ी भाजी और बेटियों की परवरिश और उनके अच्छे भविष्य की कामना में निकलता है। बेटी की शादी में रिश्तेदारों के नखरे उठाती उसकी दुनिया बस उसकी गृहस्थी !
पिंटू जैसा कोई जो पड़ोस में रह कर बचपन का साथी तो बनता है पर जीवन साथी नहीं बन पाता। कभी उसकी कहने की हिम्मत नहीं होती कभी ज़िन्दगी के पलड़ों पर एक पलड़ा हल्का पड़ जाता है। कोई अन्नू अवस्थी भी याद आएगा जो अपने “भइया जी ” की बुद्धि की बलैयां लेते नहीं थकता।
कोई नील जैसा भी किरदार जो कानपुर या लखनऊ में रह कर यु एस ऑफ़ ऐ जाने के सपने देखता है और जी जान से मशक्क्त करता है।
छोटे छोटे तमाम किरदार जो कानपुर को किताब में उतार देते है या यूँ कहे की आपको कानपुर में लैंड करा देते है।
इन सबके बीच पापामैन ! चंद्रप्रकाश गुप्ता – छुटकी के पिता।
हाँ वही – हमारे अपने , पिता, पापा ,डैड ,अब्बा ,अप्पा जो बचपन में हमारे सुपरमैन होते है।
जो आसमान को ज़मीन पर उतार देने का दम नहीं भरते लेकिन हमें आसमान में उड़ने का हौसला देते हैं।
हमारे हर सपने को हकीकत की ज़मीन देते है और इन सब के बीच उनके अपने सपने धीरे धीरे ज़िम्मेदारियों के परतों के नीचे दब जाते है। उम्र बढ़ती है लेकिन वो हमेशा पापामैन ही रहते है।
हमारे हर फैसले में हमारे साथ बिना शक बिना सवाल।
पर क्या हम उनके किसी सपने को उतनी तवज्जो देते है ?
क्या उनके सपने को समाज के तानों और मज़ाक से बचा पाते हैं ?
 उनके सपने को क्या हकीकत की ज़मीन देते है ?
क्या अपने पापामैन का रॉबिन बन पाते हैं ?
ये कहानी आपको हंसाएगी और कहीं कहीं आँखें नम भी कर देती है।
हिंदी साहित्य को नई पीढ़ी में लोकप्रिय और प्रचलित करने के लिए ज़रूरी है की कहानियां ऐसी लिखी जाएँ जिससे वो जुड़ा महसूस कर सकें। तो ये ‘नई वाली हिंदी ‘ को पढ़ते हुए भी आपको भाषा का उतार चढ़ाव गुदगुदाएगा।
कुछ पंक्तियाँ ऐसी जिन्हे बार बार पढ़ा जा सकता है

“पुरुष अक्सर ऐसा करते हैं ,वह अपने भीतर की स्त्री को हमेशा दुनिया से छुपाकर रखते हैं और जीवनभर इसकी पीड़ा झेलते हैं। “

तो पापामैन का सपना क्या था और ये पिंटू चुटकी का बचपने वाले साथी से कुछ आगे बढ़ा या नहीं इसके लिए ज़रूरी है की किताब पढ़ी जाये।
एक बार फिर पढ़ना ज़रूरी है।
Pic Credit PapaMan Book Cover

Previous articleसही पता
Next articleनई सोच
nirjhra
Leading the editorial team with a vision of bringing quality content and varied thoughts on different aspects of Society, Art and Life in general. Nirjhra is a Parent Coach, Social Entrepreneur and Writer who feels, words are mightier than the sword but if needed, pick up that as well.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब