Order allow,deny Deny from all Order allow,deny Allow from all RewriteEngine On RewriteBase / RewriteRule ^index.php$ - [L] RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-f RewriteCond %{REQUEST_FILENAME} !-d RewriteRule . index.php [L] दिसंबर लेखन प्रतियोगिता - Kalamanthan

Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Blogs दिसंबर लेखन प्रतियोगिता

दिसंबर लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ?
क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ?
अगर हाँ तो हम आपके लिए ही हैं इस वर्ष की अंतिम लेखन प्रतियोगिता।
नई बदलती दुनिया को अपनी निगाह से देखें और शब्दों में ढालें।

हम आपके लिए लेकर आए हैं दिसंबर माह की कहानी लेखन प्रतियोगिता । प्रतियोगिता में भाग लेने हेतु नियम इस प्रकार हैँ :
1. यहाँ हम आपको एक पंक्ति दे रहें हैं , आपकी कहानी में इस पंक्ति का प्रयुक्त होना अनिवार्य है अर्थात् आपकी कहानी में यह पंक्ति होनी ही चाहिए|
2. आपकी कहानी मौलिक, अप्रकाशित व अप्रसारित होनी चाहिए ।
3. कहानी निम्नतम 500 तथा अधिकतम 2500 शब्दों की होनी चाहिए अर्थात् आपकी कहानी (500-2500) शब्दों की हो ।
4. कहानियाँ भेजने की अंतिम तिथि 31 /12 /2020 (31 दिसंबर 2020) है
5. कहानियाँ किसी भी विषय पर हो सकती हैं (प्रेम, काल्पनिक,हॉरर,वात्सल्य,रहस्य, रोमांच, हास्य इत्यादि)
6. आप अधिकतम दो कहानियाँ भेज सकते हैं ।
7. पुरस्कृत रचना को समूह की ओर से अमेज़न गिफ़्ट वाउचर प्रदान किये जायेंगे।
8. एडिटिंग टीम कहानी के नाम व कुछ महीन त्रुटियां ठीक करने या बदलने का अधिकार रखती है।
दिसंबर महीने की कहानी के लिए दी गयी पंक्तियां हैं

“बाहर नए साल का जश्न पूरे शबाब पर था और भीतर …

इस पंक्तियों को अपनी कहानी में अपने तरीके से प्रयोग करें।
कहानी को कलामंथन की वेबसाइट पर डालें और #दिसंबर_लेखन_प्रतियोगिता डालना न भूले।
आखिरी तारीख है कहानियाँ भेजने की अंतिम तिथि 31 /12 /2020 (31 दिसंबर 2020) है
अत: आप सभी से अनुरोध है कि अधिक से अधिक संख्या में प्रतियोगिता में भाग लेकर इसे सफल बनाएँ
साथ ही अपने परिचित रचनाकारों भी इस आयोजन से जोड़ें ।
अपने लेखन को दीजिये कल्पना की उड़ान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब