Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Poetries याद जब घर की आती है , तो आंखें भर ही आती...

याद जब घर की आती है , तो आंखें भर ही आती है

याद जब घर की आती है , तो आंखें भर ही आती है
उनके मकतूब बैचैनी , ना जाने क्यों सताती है!
अब मेरी आखों को सपने भी , छिपाने नहीं आते
जब इनसे अब्र बरसते है , तो गमो की बाढ़ आती है!!!१!!
याद जब घर की आती है , तो आंखें भर ही आती है!
ये शिकम की बेजुबानी ही,यू घर से दूर लाती है
अपने शौहरा के खोने का , ना जाने क्यों डर सताती है!!
अब इस ज़ख्मी परिंदे का , हाल ना पूछो तुम
की अब जब सास आती है , तो तेरी याद आती है!!२!!
याद जब घर की आती है , तो आंखें भर ही आती है!
मेरे अहबाब की आखे,ना जाने क्यों सताती है
ना कुछ कह रहीं है , और अब ना कुछ वो कहना चाहती है!
अब उनकी चाह को लेकर ,कब तक भरे बाज़ार में घूमे,
ना वो दिल लेना चाहती है , ना वो दिल देना चाहतीं है!!३!!
याद जब उन की आती है , तो पलके भर ही आती है!
मकतूब Means खत, letter
अब्र Means बादल
शिकम Means उदर
शौहरा Means शौक
     

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं।

                                                                                                      

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब