Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Short Stories वेटिंग रूम..

वेटिंग रूम..

बेटी के ICU में होने की तकलीफ बहुत अंदर तक थी, मैं निराश भी था। पूरा दिन हॉस्पिटल के चक्कर लगाता रहा कागजी कार्यवाही, रजिस्ट्रेशन और कोविड। पिछले दिन मंगलवार का व्रत था उस दिन सुबह ही निकलना पड़ा तो दो दिन से भूखा था पर भूख महसूस नही हुई।
आपकी क्षमता हमेशा बुरे समय मे ही पता चलती है। सारी कार्यवाही खत्म कर मुझे वेटिंग रूम का रास्ता दिखा दिया गया। मैं उस समय अपने आप को दुनिया का सबसे दुखी और अभागा आदमी समझ रहा था, अंदर जा मैने एक कोने की सीट पकड़ी जहां चार्जिंग पॉइंट भी था। थका तो था ही सो बैठकर खुद के दुखड़े और कल क्या होगा में खो गया पता नही कब नींद आयी और कब सुबह हो गयी।
सुबह मैं वही कोने के सोफे पे बैठा अपनी मोबाइल में कुछ टटोल रहा था और मेरे आस पास सभी फोन पे या एक दूसरे से अपनी समस्याएं सांझा कर रहे थे। काफी देर सुनते ऐसा लगा जैसे मेरा दुख सबसे बड़ा नही और मैं इस दुख में अकेला नही। हम सब साथ है इस दुख में, असली दुख तो वो झेल रहा जिसको हम एडमिट कर के यहां बैठे है। वेटिंग रूम में बातों का सिलसिला कभी नही रुकता, कुछ लोग भजन और चालीसा भी बजाते है तो कुछ दुख से ऊबकर टिकटोक टाइप वीडियो चलाने लगते है।
मैं चुप हूं। मैं हमेशा सोचता था पढ़ने का टाइम नही मिलता। मिला भी तो कहाँ, कोई नही पढ़ा तो यहां भी जा सकता है और मैं पढ़ने लगा। ओह! लिखने भी..
दिन माह समय का कोई भान न था मुझे, बाहर पटाखों की आवाजें सुनाई देने लगी, वेटिंग रूम की खिड़की से बाहर देखा तो लोग कारों के शीशे से सर निकले चीख चिल्लाकर एक दूसरे को हैप्पी न्यू ईयर बोल रहे थे,बाहर नए साल का जश्न पूरे शबाब पर था और भीतर सब अपने अपनों के वापसी की राह निहार रहे थे।

 

 

 

 

Pic Credit Canva

कलामंथन भाषा प्रेमियों के लिए एक अनूठा मंच जो लेखक द्वारा लिखे ब्लॉग ,कहानियों और कविताओं को एक खूबसूरत मंच देता हैं। लेख में लिखे विचार लेखक के निजी हैं और ज़रूरी नहीं की कलामंथन के विचारों की अभिव्यक्ति हो।

हमें फोलो करे Facebook

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...

Recent Comments

Manisha on गुलाब
Rajesh Kumar on गुलाब