Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Official Kalamanthan

19 POSTS7 COMMENTS

कहानी लेखन प्रतियोगिता – जनवरी 2021

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

ब्लॉग लेखन प्रतियोगिता #1

नमस्कार दोस्तों हम इक्कीसवाँ सदी की प्रति पल बदलती दुनिया के इक्कीसवें वर्ष में प्रवेश कर चुके हैं । आप सभी को एक बार पुन: नूतन...

दिसंबर लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? अगर हाँ तो हम आपके लिए ही हैं...

नवंबर कहानी लेखन

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? अगर हाँ तो हम आपके लिए शुरू कर...

अक्टूबर कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? अगर हाँ तो हम आपके लिए शुरू कर...

October Writing Contest

Are you a writer who loves to dwell into stories? Do you love to see beneath the layers of human emotions? If yes, the Monthly Story...

सितंबर – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? अगर हाँ तो हम आपके लिए शुरू कर...

September Story Contest

"Do not bring people in your life who weigh you down. Trust your instincts, good relationships feel good, they feel right, they don’t hurt.” Are...

हिंदी लेखन प्रतियोगिता

बच्चों में लाएं हिंदी साहित्य का रुझान।पढ़ने व लिखने के लिए प्रोत्साहन का पहला कदम कलामंथन मंच एक ऐसा नाम है जो समाज के समग्र...

August – Story Writing Contest

Are you a writer who loves to dwell into stories? Do you love to see beneath the layers of human emotions? If yes, the Monthly Story...

TOP AUTHORS

Most Read

सवालों पर बेड़ियाँ – पितृसत्ता की तिलमिलाहट

अक्सर सोचती हूँ की न लिखूं। ये रोज़मर्रा की बातें हैं और घटियापन ,ओछेपन और बीमार मानसिकता पर तो जी ही रहें हैं हम। अपने काम...

अंतरज्वाला

इधर कुछ दिनों से अंजलि बैंक से काफ़ी देर से लौटने लगी थी। अंजलि और अजय दोनों कामकाजी थे। अंजलि बैंक में और अजय...

दो दिल मिले चुपके-चुपके

  "निलेश आज जो हुआ वो ठीक नहीं था" " हां सीमा इस बात का मुझे भी एहसास है कि हमसे अन्जाने में बहुत बड़ी गल्ती...

अब बस

  रूपा सुबह सुबह हाँथ में चाय का कप लिए हॉल में बैठकर टीवी देखते हुए चाय पी रही थी कि तभी उसको डोरबेल की...