Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Ragini Preet

4 POSTS1 COMMENTS

मंजरी सदन

  22/6 म.... म...मंजरी .... मंजरी सदन...!! रवि स्तब्ध था, दिल मानने से इंकार कर रहा था कि ये वही घर है जहाँ उसकी बेटी...

प्यार का गुलाब

“उसने सिर उठा कर देखा। लाइब्रेरी की सीढ़ियों से उतरती हुई चली आ रही थी सफेद दुपट्टा लहराती एक परी। उसे भ्रम हुआ कि...

बचपन को बांटते रंग

  डीयर किंडर जॉय......... सबसे पहले तो तुम्हें बहुत बधाई कि तुम हमारे नन्हे-मुन्ने का दिल जीतने में इतने कामयाब रहे। किसी शॉप में अगर...

गिल्ली-डंडा

चित्रलेखा घर की दीवार से ईंट जैसे चिपकी हुयी खड़ी थी, मानो जमीन में नींव की गहरायी माप रही हो। एकदम शांत....! एकदम गम्भीर....!!...

TOP AUTHORS

Most Read

मेरा अपना खुद का घर

मैं....मैं हूँ, यह मेरा वजूद है!किसने दिया तुमको यह हक, कि तुम खुद को मेरा भगवान समझ बैठे। रिश्ते में बंधी थी जीवनसंगिनी थी, बराबर का...

औरत के सपने

एक औरत के सपने जो औरत ने कभी देखे ही नहीं अपने लिए, विरासत में मिले सपने मुझे मां से मां को अपनी मां से बचपन से बताया...

ममता की आस

  चंदा है तू , मेरा सूरज है तू बंगले के बगल के मोड़पर पान की दुकान पर रेडियों पर गाना बज रहा था।यूँ तो श्यामा...

ये कैसी मानसिकता?

        नारी जीवन का सबसे सुंदर रूप माँ का माना जाता है और वह माँ तभी बनती है जब उसका शारीरिक विकास पूर्ण हो।एक...