Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Sangita Tripathi

3 POSTS0 COMMENTS
पढ़ना लिखना... ज्ञान का स्रोत हैं... किताबें सबसे अच्छी दोस्त हैं.... जो कभी दगा नहीं देतीं

एक कप चाय बनी गर्व की वजह !

रात की नीरवता में फ़ोन की घंटी की ट्रिंग ट्रिंग, ने मेरी नींद से बोझिल पलकों ने बड़ी मुश्किल से अपना आलस्य छोड़ा। फ़ोन...

लाल गुलाब

महिका सोच में डूबी थी, ये लाल गुलाब किसने भिजवाए! बिना नाम पते का छोटा-सा कार्ड इश्क की महक से सुवासित हो रहा था,...

अल्हड़ से वयस्क

  नादान से जिम्मेदार बनने का एक दौर। उन्मुक्त गगन में उड़ने वाले पंछी से, शांत मातृत्व की गरिमा का सफर। माँ का एक छोटा पर...

TOP AUTHORS

Most Read

अप्रैल माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

इतना शोर इतनी हाय

कल्पना में सत्यता का शब्द पिरोए हम-तुम रोएं, गांव की हो, आंचल ढंकती नहीं क्यों तुम सुहागन हों, चूड़ियां खनकती नहीं ‌क्यों, कामकाजी हो, हर वक्त चलती नहीं...

गुलाब

  रेड लाईट देखते ही पीयूष ने गाड़ी रोकी। आगे-पीछे कुछ और गाडियांँ खड़ी थी। वह रेड लाईट की ओर देख रहा था....उफ्फ! पूरे मिनट...

आधुनिक युग की मीरा – महादेवी वर्मा

रंगोत्सव पर जन्मी,आजीवन श्वेताम्बरा, "छायावाद की सरस्वती " - कवयित्री महादेवी वर्मा बीन भी हूँ मैं, तुम्हारी रागिनी भी हूँ, नींद भी मेरी अचल, निस्पंद कण-कण...