Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Editorial team

Editorial team

हिंदी लेखन प्रतियोगिता

बच्चों में लाएं हिंदी साहित्य का रुझान।पढ़ने व लिखने के लिए प्रोत्साहन का पहला कदम कलामंथन मंच एक ऐसा नाम है जो समाज के समग्र...

August – Story Writing Contest

Are you a writer who loves to dwell into stories? Do you love to see beneath the layers of human emotions? If yes, the Monthly Story...

अगस्त माह – कहानी लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? अगर हाँ तो हम आपके लिए शुरू कर...

वर्किंग मदर्स

जाने क्यों 'माओं ' के बीच भी ये खाई बना दी गयी। क्यों मान लिया जाता हैं की घर में रहने वाली माएँ अपना...

लड़की लवली तो होनी ही चहिये।

संस्कारो का, यूँ कहिए की एडिटिंग का डर है वरना शुद्ध हिंदी में कुछ परोसने को जी चाहता उनको, जो फेयर मतलब ग्लो के...

गुलाबो सीताबो – बेबाक औरतें और मज़बूत किरदार

रिलीज़ होने के चैबीस घंटे में हमने कोई फिल्म आजतक नहीं देखी। हिंदी फिल्मो के प्रति हमारे प्यार पर शक न करें लेकिन फिल्म १...

Depression is an A-R-T !!!

  We often hear people saying “he is so depressed” or “she was sounding so depressive in her statements” all the time around. What makes...

Serving my Flavour

Happy Sunday Peeps!! Today is that interesting part of the week where I talk one-on-one with an amazing personality and make you go through it...

Lighting Her Way Up

Hello Peeps! As soon as the Sunday morning petals bloom, I have this sheer adrenaline rush for my Celebrity Edition Interview blog for the #i_am_me...

Fight for the 5 Days of Dignity

Hello Everyone! I am back with my Sunday blog of #i_am_me series for KalaManthan and I am feeling super energetic right now. Today we have...

A Rebel With a Cause

Hello Peeps! Time for the Sunday edition of my blog on #i_am_me series for KalaManthan and this time we have someone who is the synonym...

Lights Camera and Dreams

His life has been a perfect example of the famous lines by Paulo Coelho - When you want something, all the universe conspires in helping you to...

Most Read

कवि महाप्राण सूर्यकांत त्रिपाठी ‘ निराला’

  वर दे, वीणावादिनी , वर दे! प्रिय स्वतंत्र- रव अमृत-मंत्र तव भारत में भर दे! काट अंध- उर के बंधन स्तर बहा जननी ज्योतिर्मय निर्झर कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर, जगमग...

बांझाकरी की प्रेमिल कविता

ये लेख कलामंथन समूह की लेखिका प्रियंका गहलोत द्वारा लिखित है। आज के दौर में पत्राचार का सिलसिला थम चुका है। कलामंथन ने दिया...

मेरे प्रिय रेडियो

मेरे प्रिय रेडियो, तेज हवाओं ने खिड़की के पल्ले को आपस में टकराने पर मजबूर कर दिया है। मैं भी बिस्तर से उठ कर अलसाई...

आशिक-ए-वतन

ये लेख कलामंथन समूह की लेखिका रागिनी प्रीत द्वारा लिखित है। आज के दौर में पत्राचार का सिलसिला थम चुका है। कलामंथन ने दिया...