Phone No.: +917905624735,+919794717099

Email: support@kalamanthan.in

Home Ghazals

Ghazals

तुमसे जाना है सादगी को हसीं तुमसे करता हँशायरी को हसीं

तुमसे जाना है सादगी को हसीं तुमसे करता हँशायरी को हसीं इससे सबको बहुत ज़शकायत है क्यों ज़लखेकोई ज़जिंदगी को हसीं मुफ्लीसों के लह से अहल ए करम कर...

Most Read

मजेदार एनिवर्सरी

"आज खाने में क्या बना रही है बहू?, कंगना जी ने उत्सुकतावश पूछा। "कुछ नहीं माँ जी, आज संडे है तो सोचा चावल, दाल और...

Depression is an A-R-T !!!

  We often hear people saying “he is so depressed” or “she was sounding so depressive in her statements” all the time around. What makes...

तुम लौट आओ ना

"मुझे एक और मौका दोगी क्या? प्लीज!" अर्जुन ने हिम्मत जुटा कर अंजना को आवाज़ दी। कैफे में टेबल से अपना बैग उठा कर अंजना...

Is it unspeakable…Period!!!

  Nearly 70 female students at an institute in Gujarat’s Bhuj were pressured to remove their undergarments by their principal to prove that they were...