Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Parenting

Parenting

संबंध

बाहर नये साल का जश्न पूरे शबाब पर था और भीतर,, मेरे अंतर्मन में स्मृतियों की आतिशबाज़ी शुरू हो गयी!! कल ही की तो बात...

जश्न

पाखि अपने माता पिता की एक मात्र संतान थी।शहर मे उसके पिता जाने माने रेडीमेड कपड़ों के व्यापारी थे। "पाखि गारमेंट्स" के शोरुम शहर...

फैसला

"माँ ! मुझे अनिल ने बताया कि लाल आप का पसंदीदा रंग है। " रश्मि ने अपने पति के द्वारा बतायी गयी बात का...

Raising Successful Children – Part 2

Raising successful children is what every parent aspires for and this series is just a checklist to be reminded to all of us as...

Raising Successful Children- Part 1

  The world is a changed place. We never thought that someday we all will be locked in our houses and the world outside will...

Traffic Wizard

Harbadipur is a busy town and is also very true to it’s name. The people there are always in a hurry. Old or young,...

How to Teach Writing Skill to Toddlers?

Being into Early childhood education and parenting, I was always asked varied questions by young, anxious mothers. Apart from the initial hiccups of toilet training...

The Magical Banyan Tree

    Mr Lobhi was a greedy builder. He was loud, rude and arrogant and stayed in a palatial house all by himself. He would buy...

Teach Your Child To Express Emotions

As a parent, we teach so many things to our children. We are eager to make them multi-talented personalities. It is very common nowadays...

The Parenting Decoder

A few years ago during a bloggers meet I met this gentleman with a terrific personality & a calm, soothing voice telling us precisely...

Most Read

अम्मा का इंतकाल

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

अनुराधा

रात का अंधेरा और गहरा होता जा रहा था साथ ही मेरे भीतर की जदोजहद भी गहरी होती जा रही थी | बीते कुछ...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

मेरा अपना भी अस्तित्व हैं

“सुबह पांच बजे के करीब नींद खुली, फ़िल्टर कॉफ़ी माइक्रो कर जब बालकनी में आई, अद्भुत नज़ारा था..सामने वाले पार्क से आता कलरव आस...