Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Short Stories

Short Stories

थोड़ी सी घिन

इस कहानी में मैं भी हूँ। मेरे बचपने की सरल कहानी जो अब तक दिमाग मे घर किये हुए है सोचा आप सबके साथ...

अम्मा का विमान

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

आज़ादी की क़ीमत

  रानी के पड़ोसी दूसरे शहर शिफ्ट हो रहे थे, जाते हुए उन्होंने अपना तोता रानी को दे दिया। पहले रानी को यह ज़िम्मेदारी कुछ...

गेंद

 रवि अपने यादों के किरणों को समेटने की अथक कोशिश कर रहा था परन्तु ,"क्या समेटने की भी कोई सीमा होती है ,क्या सोचने...

खूबसूरत कर्ज़ 

  "मां! मैं तुम्हारे साथ नहीं आ सकता, मैं उस आदमी को माफ नहीं कर सकता जिसने तुम्हारी ज़िंद्गी बेरंग कर दी हो। कम से...

मुलाकात इक अजनबी से

  उस दिन सुनहरी धूप खिली थी| मैं हर सुबह की तरह पार्क में टहलने गयी थी| थोड़ी देर टहलने के बाद मैं थक कर...

‘मातृत्व की अनुभूति’

  मैं एक स्त्री हूँ , पिता-माता के लिए कन्या संतान! एक कन्या के जन्म से ज्यादातर परिवार में दुख का बादल घिर आता है। कहने...

अलगाव

संजना ने भरे गले से घर का दरवाजा खटखटाया| मांँ के दरवाजा खोलते ही बच्चे, नानी से लिपट गए| "नानी... नानी, हम आ गए, नानी।अब हमेशा...

गुलमोहर के फूल

  आज पाँच साल बाद निकिता ने अपनी स्कूटी उसी पार्क के सामने रोकी,जहाँ वह और अनुज अक्सर मिला करते थे।पार्क की उसी बेंच पर...

तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है

"मुझे मर जाना चाहिए, तुम मेरा गला दबा दो| प्लीज मुझ पर रहम करो| तुम खुद बच्चों को संभाल लेना| मुझे बहुत घबराहट हो...

लाल गुलाब

महिका सोच में डूबी थी, ये लाल गुलाब किसने भिजवाए! बिना नाम पते का छोटा-सा कार्ड इश्क की महक से सुवासित हो रहा था,...

Shaky Shaun

Shaun was a young boy who was afraid of everything. He could not ride a bicycle as he was scared of falling and hurting...

Most Read

सुजीत सरकार की नायिकाएं

सुजीत सरकार की फ़िल्में कई मायनों में एक ताजगी लिए होती हैं| उनकी फिल्मों की पटकथाओं के साथ ही, उनके किरदार भी लम्बे समय...

यह कैसी सज़ा ?

"आह! पानी...पानी...कोई पानी पिला दो।" कराहते हुए दीपू ने अपनी अधमुँदी आँखें खोलकर इधर- उधर देखा। पपड़ाए सूजे हुए होठों पर ,जीभ फिराकर उन्हें गीला...

ये मोह मोह के धागे

"अरे! बेटा रूही इतना घबराओ मत, कल तुम्हें हमारे घर बहू बन कर आना है कोई गुलाम बन कर नहीं"। यह बोल कर सुमन...

फैमिली ट्रिप

  बाण गंगा को पीछे छोड़े अभी आधा घण्टा ही हुआ था कि माताजी ने ऐलान किया कि भईया उनसे न हो पाएगा। बहुत विचार...