Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Social issues

Social issues

पितृसत्ता में पिसते पुरुष

नारीवाद या फेमिनिज्म से भी लोगों को गुरेज़ शायद इसीलिए भी है की वो प्रत्येक नारी के पुरुष को और प्रत्येक पुरुष के भीतर...

लड़की लवली तो होनी ही चहिये।

संस्कारो का, यूँ कहिए की एडिटिंग का डर है वरना शुद्ध हिंदी में कुछ परोसने को जी चाहता उनको, जो फेयर मतलब ग्लो के...

लॉकडाउन में बदलते रिश्ते

आज मै यह लेख अपने अपराध बोध को कुछ कम करने की मंशा से,और अपनी गलत धारणा को स्वीकार करने हेतु कलमबद्ध कर रही...

Get up! Dress up!! Show up!!! Never give up

The most used word apart from other obvious ones is 'work from home'. We are surviving on this concept and doing pretty good. Few...

How are you coping with the self-isolation?

One question that I have asked and answered the most is, “How are you coping with the self-isolation?” and my answer is, “Surprisingly well!...

तुम लौट आओ ना

"मुझे एक और मौका दोगी क्या? प्लीज!" अर्जुन ने हिम्मत जुटा कर अंजना को आवाज़ दी। कैफे में टेबल से अपना बैग उठा कर अंजना...

Is it unspeakable…Period!!!

  Nearly 70 female students at an institute in Gujarat’s Bhuj were pressured to remove their undergarments by their principal to prove that they were...

सच्चा मातृ दिवस

नहीं चाहिए #मातृ_दिवस का #ढोंग हर #माँ को चाहिए एक सच्चा #मातृ_दिवस जो हर #रोज़ हो... हम कब तक एक दिन मातृ दिवस का ढोल बजा...

A Rebel With a Cause

Hello Peeps! Time for the Sunday edition of my blog on #i_am_me series for KalaManthan and this time we have someone who is the synonym...

मैं नहीं वैदेही

  माना कि तुम हो मर्यादा पुरुषोत्तम की तरह एक अच्छे पुत्र , एक अच्छे भाई,एक अच्छे इंसान। एक आदर्श पुरूष का रूप,जिसे पाने की कल्पना...

लाक डाउन में सकारात्मक अनुभव भी

यह लोकडाउन बहुत कुछ नया लेकर आया है। कोई डांस सीख रहा है, कोई गाना ,कोई कुकिंग कर रहा है, कोई लूडो खेलना है। कुछ लोग...

Thappad- Of course, He can!

  The changing society and empowered women. That's where we believe to live. We believe that incidents of abuse are not happening to us. It is so...

Most Read

मेरा अपना खुद का घर

मैं....मैं हूँ, यह मेरा वजूद है!किसने दिया तुमको यह हक, कि तुम खुद को मेरा भगवान समझ बैठे। रिश्ते में बंधी थी जीवनसंगिनी थी, बराबर का...

औरत के सपने

एक औरत के सपने जो औरत ने कभी देखे ही नहीं अपने लिए, विरासत में मिले सपने मुझे मां से मां को अपनी मां से बचपन से बताया...

ममता की आस

  चंदा है तू , मेरा सूरज है तू बंगले के बगल के मोड़पर पान की दुकान पर रेडियों पर गाना बज रहा था।यूँ तो श्यामा...

ये कैसी मानसिकता?

        नारी जीवन का सबसे सुंदर रूप माँ का माना जाता है और वह माँ तभी बनती है जब उसका शारीरिक विकास पूर्ण हो।एक...