Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Stories

Stories

खूबसूरत कर्ज़ 

  "मां! मैं तुम्हारे साथ नहीं आ सकता, मैं उस आदमी को माफ नहीं कर सकता जिसने तुम्हारी ज़िंद्गी बेरंग कर दी हो। कम से...

माई की कत्थई साड़ी

  हवाई जहाज की खिड़की से बाहर सब कुछ धुला हुआ सा लग रहा था। अगर मौका कोई और होता तो शायद मान्यता पचपन की...

वैश्या

कला संस्कृति संस्थान का अमृता साहित्यिक हॉल खचाखच भरा था।स्टेज के बीचोंबीच एक कुर्सी रखी थी जिस पर तेज स्पॉट लाइट पड़ रही थी...

मुलाकात इक अजनबी से

  उस दिन सुनहरी धूप खिली थी| मैं हर सुबह की तरह पार्क में टहलने गयी थी| थोड़ी देर टहलने के बाद मैं थक कर...

‘मातृत्व की अनुभूति’

  मैं एक स्त्री हूँ , पिता-माता के लिए कन्या संतान! एक कन्या के जन्म से ज्यादातर परिवार में दुख का बादल घिर आता है। कहने...

अलगाव

संजना ने भरे गले से घर का दरवाजा खटखटाया| मांँ के दरवाजा खोलते ही बच्चे, नानी से लिपट गए| "नानी... नानी, हम आ गए, नानी।अब हमेशा...

गुलमोहर के फूल

  आज पाँच साल बाद निकिता ने अपनी स्कूटी उसी पार्क के सामने रोकी,जहाँ वह और अनुज अक्सर मिला करते थे।पार्क की उसी बेंच पर...

तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है

"मुझे मर जाना चाहिए, तुम मेरा गला दबा दो| प्लीज मुझ पर रहम करो| तुम खुद बच्चों को संभाल लेना| मुझे बहुत घबराहट हो...

लाल गुलाब

महिका सोच में डूबी थी, ये लाल गुलाब किसने भिजवाए! बिना नाम पते का छोटा-सा कार्ड इश्क की महक से सुवासित हो रहा था,...

महक….!

"अरे वाह! मनोरमा आज तो तुम्हारी रसोई में बहुत समय बाद ऐसी खुशबू आई।बेटे की पसंद का खाना बनाया जा रहा है।" नवीन जी...

अंतरज्वाला

इधर कुछ दिनों से अंजलि बैंक से काफ़ी देर से लौटने लगी थी। अंजलि और अजय दोनों कामकाजी थे। अंजलि बैंक में और अजय...

अब बस

  रूपा सुबह सुबह हाँथ में चाय का कप लिए हॉल में बैठकर टीवी देखते हुए चाय पी रही थी कि तभी उसको डोरबेल की...

Most Read

सुजीत सरकार की नायिकाएं

सुजीत सरकार की फ़िल्में कई मायनों में एक ताजगी लिए होती हैं| उनकी फिल्मों की पटकथाओं के साथ ही, उनके किरदार भी लम्बे समय...

यह कैसी सज़ा ?

"आह! पानी...पानी...कोई पानी पिला दो।" कराहते हुए दीपू ने अपनी अधमुँदी आँखें खोलकर इधर- उधर देखा। पपड़ाए सूजे हुए होठों पर ,जीभ फिराकर उन्हें गीला...

ये मोह मोह के धागे

"अरे! बेटा रूही इतना घबराओ मत, कल तुम्हें हमारे घर बहू बन कर आना है कोई गुलाम बन कर नहीं"। यह बोल कर सुमन...

फैमिली ट्रिप

  बाण गंगा को पीछे छोड़े अभी आधा घण्टा ही हुआ था कि माताजी ने ऐलान किया कि भईया उनसे न हो पाएगा। बहुत विचार...