Email: support@kalamanthan.in, editor@kalamanthan.in

Home Writing Contest

Writing Contest

जून माह लेखन प्रतियोगिता

क्या लेखन आपकी कल्पना की अभूतपूर्व उड़ान है ? क्या कहानियां एवं कथा साहित्य आपकी रूचि है ? क्या दूसरों की लिखी कहानियों को पढ़ आपको...

सपनों का घर या मकान?

मालती सुबह से दस बार अपने मोबाइल फ़ोन में झाँक चुकी थी। कभी-कभी तो उसे अपनी ही अधीरता पर बहुत झल्लाहट होने लगती।सावन का...

किराये का घर

  मीता सब्जी का थैला लिए जल्दी -जल्दी चली जा रही थी.। आठ बज गए! महेश साढ़े नौ तक बैंक चले जाते हैं..।जल्दी से घर...

बोझ

  “घर, हवा में नहीं बना करते कि सपना देखा और महल तैयार! दो गज जमीन की हैसियत नहीं, बातें कोठी बनाने की। तुमसे नीचे...

बुज़ुर्ग

"जे लो अम्मा तुमाए प्याज के पकौड़े और अदरक वाली चाय और कछु चाहिए तो अबही बोल दो नहीं तो सारा दिन खुशबू.. खुशबू.....

नेम प्लेट

  मोबाइल की घंटी बज रही थी। मैं किचन में सब्जी छौंकने में व्यस्त थी। अंजान नंबर देख मैंने सब्जी बनाने में ज्यादा ध्यान लगाया।...

घर

"आपकी संस्था 'घर' को सरकारी फण्ड मिलने का ऐलान हुआ है, अब आगे की क्या प्लानिंग है? क्या आप अपने बेटे को वापस बुलायेंगी।"...

कीचड़

    बनारस एक शहर ही नहीं है बल्कि यों कहिये भगवान भोलेनाथ और मां अन्नपूर्णा की प्राचीनतम नगरी है यह नगर हमेशा से एक विलक्षण...

गृह प्रवेश

बाज़ार में घूमते घूमते मेरी नज़र साड़ियों की दुकान पे जा टिकी कांच की खिड़की से झांकते उस पुतले पे सजी गुलाबी साड़ी सुन्दर...

आश्वासन

गरिमा को जब से पता चला था कि वो माँ बनने वाली है उसकी खुशी का ठिकाना न था | वो इस बात पर...

थोड़ी सी घिन

इस कहानी में मैं भी हूँ। मेरे बचपने की सरल कहानी जो अब तक दिमाग मे घर किये हुए है सोचा आप सबके साथ...

अम्मा का विमान

बालपन में घटित एक दुःखद घटनकाल की सुखद अनुभूतियाँ, ये मेरे बालपन का संस्मरण है,जब मासूमियत दिल पे हावी होती है और ज़ुबाँ पे...

Most Read

सुजीत सरकार की नायिकाएं

सुजीत सरकार की फ़िल्में कई मायनों में एक ताजगी लिए होती हैं| उनकी फिल्मों की पटकथाओं के साथ ही, उनके किरदार भी लम्बे समय...

यह कैसी सज़ा ?

"आह! पानी...पानी...कोई पानी पिला दो।" कराहते हुए दीपू ने अपनी अधमुँदी आँखें खोलकर इधर- उधर देखा। पपड़ाए सूजे हुए होठों पर ,जीभ फिराकर उन्हें गीला...

ये मोह मोह के धागे

"अरे! बेटा रूही इतना घबराओ मत, कल तुम्हें हमारे घर बहू बन कर आना है कोई गुलाम बन कर नहीं"। यह बोल कर सुमन...

फैमिली ट्रिप

  बाण गंगा को पीछे छोड़े अभी आधा घण्टा ही हुआ था कि माताजी ने ऐलान किया कि भईया उनसे न हो पाएगा। बहुत विचार...